Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

21 जून मनाई जायेगी निर्जला एकादशी

माटी की महिमा न्यूज /उज्जै निर्जला एकादशी का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। जैसा कि निर्जला एकादशी के नाम से ही पता चलता है कि इस व्रत को करते समय एक बूंद भी पानी का सेवन नहीं किया जाता है। हर वर्ष निर्जला एकादशी का व्रत ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रखा जाता है। साल 2021 में यह तिथि 20 जून को शाम 4.21 बजे से शुरू होगी तथा इसका समापन 21 जून को दोपहर 1.31 बजे होगा। हिंदू पंचांग के मुताबिक उदया तिथि में निर्जला एकादशी का व्रत 21 जून को रखा जाएगा। वहीं व्रत का पारण 22 जून को किया जाएगा। बगैर पानी का सेवन किए इस व्रत को करने के कारण यह व्रत काफी कठिन माना जाता है। निर्जला एकादशी का व्रत रखने वाले जातक को एक दिन पहले से ही अन्न का भी त्याग कर देना चाहिए। व्रत करने के एक दिन पहले भी सिर्फ सात्विक भोजन करना चाहिए।
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जीवन में मनुष्य को निर्जला एकादशी का व्रत अवश्य रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि निर्जला एकादशी व्रत को पांडव एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। माना जाता है कि इस व्रत का पालन महाभारत काल में भीम ने भी किया था और इसी व्रत के फल से उन्हें स्वर्गलोक की प्राप्ति हुई थी। निर्जला एकादशी व्रत को करने से मोक्ष की प्राप्ति तो होती है और मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं। एकादशी के व्रत में भगवान विष्णु की पूजा पूरे विधि-विधान के साथ की जाती है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
%d bloggers like this: