Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

ओवैसी का पलटवार- ये नफरत हिंदुत्व की देन है
नई दिल्ली।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कल कहा था कि लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी लोग हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि भारत में रहने वाले लोगों का डीएनए एक ही है। हालांकि, भागवत का यह बयान एआईएमआईएम चीफ ओवैसी को रास नहीं आया है और अब उन्होंने इसपर पलटवार किया है। सिलसिलेवार ट्वीट्स के जरिए ओवैसी ने कहा है कि ये नफरत हिंदुत्व की देन है। ओवैसी ने ट्वीट किया, आरएसएस के भागवत ने कहा कि लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी। इन अपराधियों को गाय और भैंस में फर्क नहीं पता होगा लेकिन कत्ल करने के लिए जुनैद, अखलाक़, पहलू, रकबर, अलीमुद्दीन के नाम ही काफी थे। ये नफऱत हिंदुत्व की देन है, मुजरिमों को हिंदुत्ववादी सरकार की पुश्त पनाही हासिल है।
उन्होंने आगे लिखा, ‘केंद्रीय मंत्री के हाथों अलीमुद्दीन के कातिलों की गुलपोशी हो जाती है, अखलाक़ के हत्यारे की लाश पर तिरंगा लगाया जाता है, आसिफ़ को मारने वालों के समर्थन में महापंचायत बुलाई जाती है, जहां भाजपा का प्रवक्ता पूछता है कि क्या हम मर्डर भी नहीं कर सकते? कायरता, हिंसा और कत्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोंच का अटूट हिस्सा है। मुसलमानों की लिंचिंग भी इसी सोच का नतीजा है।’
आरएसएस चीफ ने कहा था कि लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी हैं। भारत में रहने वाले सभी लोगों का डीएनए एक है, भले ही वे किसी भी धर्म के हों और मुसलमानों को ”डर के इस चक्र” में नहीं फंसना चाहिए कि भारत में इस्लाम खतरे में है। उन्होंने यह भी कहा कि जो लोग कहते हैं कि मुसलमान इस देश में नहीं रह सकते, वे हिंदू नहीं हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!