Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

आज शाम को सांताक्रूज कब्रिस्तान में किया जाएगा सुपुर्दे खाक
मुम्बई।
हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता रहे ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार का निधन हो गया है। बुधवार सुबह 7.30 बजे 98 साल की उम्र में उन्होंने मुंबई के हिंदुआ अस्पताल में अंतिम सांस ली। दिलीप कुमार को आज मुंबई के सांताक्रूज कब्रिस्तान में सुपुर्दे खाक किया जाएगा।
वे पिछले दिनों से बीमार चल रहे थे और बार-बार अस्पताल में भर्ती करवाया जा रहा था। पिछले एक महीने में उन्हें दूसरी बार अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हर बार उनकी पत्नी सायरा बानो साथ रहीं और हर बार उन्होंने फैन्स से अपील की कि वे दिलीप साहब की अच्छी सेहत के लिए कामना करें। पिछले कुछ दिनों से उम्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे थे और उन्हें 30 जून को मुंबई के हिंदुजा अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। इससे पहले 6 जून को सांस लेने में तकलीफ के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें फेफड़ों में पानी भरने की समस्या थी। तब एक छोटी सी सर्जरी हुई थी और पांच दिन बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई थी। दिलीप कुमार के निधन की सूचना मिलने के बाद पीएम मोदी ने दिलीब कुमार की पत्नी सायरा बानो से फोन पर बात की। पीएम ने करीब 10 मिनट फोन पर बात की और परिवार को ढांढस बंधाया। दिलीप कुमार का असली नाम यूसुफ खान था। उनका जन्म और पालन-पोषण नासिक में हुआ था। अभिनेता बनने से पहले वह आर्मी क्लब में सैंडविच स्टॉल चलाते थे। बाद में उनकी मुलाकात बॉम्बे टॉकीज की मालिक देविका रानी से हुई, जहां उन्होंने एक कहानीकार के रूप में पटकथा विभाग में काम करना शुरू किया। दिलीप कुमार ने 1944 में फिल्म ज्वार भाटा के साथ बॉलीवुड का सफर शुरू किया था। उन्होंने 1947 में जुगनू में अभिनय किया और यह बॉक्स ऑफिस पर उनकी पहली बड़ी हिट फिल्म बन गई। अभिनेता ने आगे इंसानियत, देवदास, कोहिनूर और आन जैसी फिल्में कीं। वे सांसद भी रह चुके थे।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!