Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

हजारों भक्तो ने बगलामुखी के दर नवाया शीश

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

नलखेड़ा-विश्व प्रसिद्ध मां बगलामुखी के दरबार में गुप्त नवरात्रि के दौरान रविवार को हजारों भक्त माता के दर्शन करने पहुंचे। रविवार को महानवमी पर भक्तो की काफी भीड़ रही।
माता मंदिर में प्रातःकालीन आरती के पश्चात से सायंकालीन आरती के पूर्व तक बड़ी संख्या में भक्तों ने मां के दर पर शीश नवाया। महानवमी पर माता मंदिर डोम क्षेत्र में भक्तो की लंबी कतार माता के स्वर्ण श्रृंगार के दर्शन हेतु लगी रही। साथ ही पार्किंग क्षेत्र भी वाहनों की पार्किंग से भरा गया।

मां बगलामुखी मंदिर पर अलसुबह से शुरू हुआ भक्तों का कारवां शाम तक जारी रहा। मां के स्वर्ण श्रृंगार दर्शन की एक झलक पाने के लिए श्रद्धालुजन काफी समय तक लंबी कतारों में खड़े रहे। चारों ओर दूर-दूर तक हर तरफ सिर्फ भक्तों का मेला दिखाई पड़ रहा था।
भक्तों द्वारा चढ़ाई गई हार-फूल, प्रसादी आदि पूजन सामग्री की इकट्ठी हुई बड़ी मात्रा भक्तों की खासी भीड़ की ओर संकेत कर रही थी। भक्तो ने मुख्य हवन कुंड क्षेत्र के आसपास से ही माता के श्रृंगार दर्शन का लाभ लिया ।वाहनों के बड़ी संख्या में इकठ्ठा होने के कारण दिनभर जाम की स्थिति बनी रही।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री भी पहुंचे

रविवार को झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मां बगलामुखी के दरबार में मत्था टेका और पूजा अर्चना की। इस दौरान उनकी अगवानी भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद सिंह बरखेड़ी, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रेम मस्ताना,दिलीप सकलेचा, मंडल अध्यक्ष पवन वेदियां,मीडिया प्रभारी प्रतीक तांतेड़ आदि ने की।

पूर्व मुख्यमंत्री के कारण भक्तो को करना पड़ा गर्मी में इंतजार

पूर्व मुख्यमंत्री के आगमन के दौरान जिम्मेदार अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा मनमानी की जाकर माता मंदिर पहुंचे भक्तों को गर्मी के बीच काफी देर लाईन में खड़े रहकर माता के दर्शन हेतु इन्तजार कराया गया। इसे लेकर भक्तो में मंदिर समिति की व्यवस्थाओ को लेकर काफी आक्रोश दिखाई दिया। श्रध्दालुओ ने मंदिर समिति की व्यवस्थाओ को लेकर नाराजगी जताते हुए कहा कि मंदिर पर आने वाले सभी श्रद्धालु होते है ऐसे में मंदिर समिति के दोहरे नियम समझ से परे है।