Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

अल सुबह से रिमझिम का दौर, आसमान बादलों से पटा
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

लंबे समय के बाद मानसून की सक्रियता अल सुबह से दिखाई दे रही है। लोग छाते और रेनकोट में नजर आ रहे हैं। मौसम विभाग ने दो से तीन दिन तक बारिश होने का अनुमान बताया है। हवा 10 से 12 किलोमीटर की रफ्तार से चल रही है।
शहर में दो दिनों से बादल छा रहे थे। लेकिन उम्मीद की बारिश नहीं हो रही थी। दिनरात के तापमान में 5 से 6 डिग्री का अंतर आ गया था। इस बीच आज अल सुबह से बारिश का क्रम शुरू हो गया। तड़के 5 बजे के लगभग शुरू हुई बारिश सुबह 8 बजे तक 3 मिमी दर्ज की जा चुकी थी। उसके बाद कुछ देर के लिए बारिश का क्रम थमा और 10.30 बजे फिर से बारिश शुरू हो गई। कभी तेज तो कभी रूक-रूककर दोपहर 12 बजे तक बारिश का क्रम जारी था। जीवाजी राव वेधशाला परीवेक्षक दीपक गुप्ता के अनुसार बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम सक्रिय नजर आ रहा है। शहर में दो से तीन दिन बारिश होती रहेगी। इस बीच झमाझम की उम्मीद भी है। लेकिन रूक-रूककर बारिश का क्रम जारी रहेगा। इस बीच अधिकतम तापमान के साथ न्यूनतम तापमान में भी गिरावट दर्ज हो सकती है। सुबह से ही आसमान में काले बादल छाए हुए हैं। जिसके चलते आज सूर्यदेव दिखाई नहीं दिए हैं। जैसी स्थिति बनी हुई है उससे प्रतीत हो रहा है कि सूर्य के दर्शन आज मुमकिन नहीं है। गुरुवार को अधिकतम तापमान में 3 डिग्री का उछाल दर्ज किया गया था। बुधवार को अधिकतम तापमान 29 डिग्री था। न्यूनतम तापमान में भी मामूली गिरावट आई है। सुबह से जारी बारिश के बीच हवा 10 से 12 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही है। जिसमें कमी आते ही तेज बारिश होगी।
सुबह से सड़कों पर सन्नाटा, छाते, रेनकोट में लोग
शहर में मानसून की शुरुआत 15 जून से मानी गई है। लेकिन एक माह गुजर जाने के बाद भी मानसून के सक्रिय नहीं होने से लोग रेनकोट और छाते में दिखाई नहीं दे रहे थे। आज सुबह से सड़कों पर लोग बारिश से बचने के लिए छाते और रेनकोट का उपयोग करते दिखाई दिए। अलसुबह से जारी बारिश के चलते सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ था। रिमझिम बारिश से कई जगह पानी भर गया था। जिसके चलते शहर में कई छोटी दुकानें नहीं खुली थी। ऑफिस और जरूरी काम से जाने वाले लोग ही सड़कों पर दिखाई दे रहे थे।
किसानों के चेहरों पर रौनक
काफी समय से निराशा में डूबे किसानों के चेहरों पर अब रौनक दिखाई दे रही है। खेतों में किसानों की चहल कदमी भी बनी हुई है। लेकिन जिस तरह से आसमान में बादल छाए हुए हैं और सक्रिय मानसून का एहसास हो रहा है वह किसानों के लिए चिंता का विषय भी बना हुआ है। जून माह के दूसरे और तीसरे सप्ताह में हुई बारिश के बाद किसानों ने सोयाबीन की फसल खेतों में बो दी थी। उसके बाद बारिश का क्रम रूक गया था जिससे उनकी चिंता बढ़ गई थी। लेकिन अब उनकी चिंता दूर हुई है। लेकिन उन्हें अधिक बारिश होने पर फसल खराब होने का खतरा भी नजर आने लगा है।
झमाझम से पूरी होगी गंभीर की उम्मीद
मानूसन की सक्रियता प्रदेश में दिखाई दे रही है। इंदौर में भी आज सुबह से बारिश शुरू हो चुकी थी। उम्मीद जताई जा रही है कि इंदौर में झमाझम बारिश के बाद यशवंत सागर लबालब होगा और गेट खुलते ही गंभीर डेम की उम्मीदें भी पूरी होना शुरू हो जाएंगी। वैसे अभी शहर में गंभीर डेम के पानी से दो दिन छोड़कर जलप्रदाय किया जा रहा है। रिमझिम बारिश के बीच डेम में पानी की आवक काफी कम है। उम्मीद जताई जा रही है कि शहर में भी झमाझम बारिश हो जिससे जलप्रदाय के सबसे बड़े स्त्रोत गंभीर डेम का जलस्तर बढ़ जाए। वैसे मौसम विभाग की मानें तो मानसून की सक्रियता दो से तीन दिनों की है। जिससे जलप्रदाय की उम्मीद पूरी होना संभव नहीं है। लेकिन कुदरत के आगे किसकी चली है। हो सकता है बारिश की झड़ी लगे और डेम लबालब हो जाए।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!