Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

गुरु पूर्णिमा: उच्च शिक्षा मंत्री ने सांदीपनि आश्रम में किया पूजन

शहर के मंदिरों में पूजा-अर्चना, दिनभर धार्मिक आयोजन
उज्जैन।
धार्मिक नगरी में आज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने सांदीपनि आश्रम पहुंचकर पूजा-अर्चना की। सांदीपनि आश्रम गुरु-शिष्य परंपरा का सबसे बड़ा केन्द्र माना जाता है। यहां भगवान श्रीकृष्ण और बलराम महर्षि सांदीपनि से शिक्षा प्राप्त की थी।
गुरु पूर्णिमा पर गुरु-शिष्य परंपरा का उत्सव मनाया जाता है। धार्मिक नगरी में इसका काफी महत्व है। आज सुबह से ही शहर के मंदिरों में गुरु-शिष्य परंपरा को लेकर पूजन-अभिषेक और धार्मिक उत्सव की शुरुआत हो गई थी। चिंतामण मार्ग पर बने महामंडलेश्वर अतुलेशानंद सरस्वती के आश्रम में भी गुरु-शिष्य परंपरा का निर्वहन किया जा रहा था। शहर में गुरु पूर्णिमा का उत्सव कोविड-19 गाइड लाइन के अनुरूप हो रहा है। दिनभर धार्मिक आयोजन जारी रहेंगे। वहीं शाम को भी परंपरा का निर्वहन किया जाएगा। प्रतिवर्ष गुरुपूर्णिमा का पर्व विद्यालयों में मनाया जाता रहा है। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते विगत दो वर्षों से बंद स्कूलों में इस बार भी गुरु-शिष्य परंपरा का निर्वहन नहीं हो पाया है। ऑनलाइन चल रही पढ़ाई के दौरान ही विद्यार्थियों ने शिक्षकों को गुरुपूर्णिमा की शुभकामनाएं दी हैं।
कुचैरा भैरवनाथ मंदिर- शासकीय कुचैरा भैरवनाथ मन्दिर, गढ़कालिका रोड़ पर आज आज गुरूपूर्णिमा उत्सव मनाया जा रहा है। पुजारी दुर्गा गेहलोत एवं सेवादार उदय गेहलोत के अनुसार रविवार प्रात: 7 से 11 बजे तक विशिष्ट द्रव्यों से अभिषेक पूजन किया जाकर भगवान का दुग्धाभिषेक किया जायेगा। पश्चात भैरव चालीसा, भैरवाष्टक, भैरव स्तुति, भैरवाष्टोत्तर शमनामावली का पाठ भी किया जायेगा तथा दोपहर 12 बजे विशेष श्रृंगार कर 51 दीपों से महाआरती की जायेगी तथा कोरोना महामारी से विश्व को मुक्ति दिलाने की कामना की जायेगी।
गुरूगादी पर पेश की चादर- संत शिरोमणि रविदासजी महाराज की गुरूगादी वृंदावनपुरा पर गुरूपूर्णिमा पर्व के उपलक्ष्य में आज चादर पेश की गई। महेश सिसौदिया के अनुसार प्रात: 9.30 बजे संत शिरोमणि श्री रविदासजी महाराज के भजन एवं कीर्तन का संगीतमय आयोजन अंतर्राष्ट्रीय रामचन्द्र गांगोलिया एवं मण्डली द्वारा किया गया। प्रात: 10 बजे गुरूगादी पर चादर पेश कर कोरोना महामारी की समाप्ति एवं राष्ट्र की उन्नति की प्रार्थना की गई।
बटुक भैरव मंदिर – चक्रतीर्थ स्थित श्री बटुक भैरव मंदिर पर प्रतीकात्मक रूप से गुरूपूर्णिमा महोत्सव मनाया जा रहा है। पुजारी वरुण तिवारी ने बताया कि बटुक भैरव मन्दिर पर सुबह 8 बजे अभिषेक पूजन किया गया। उसके उपरांत प्रतीकात्मक रूप से चल समारोह निकाला गया। शाम 5 बजे से चलित भंडारे के रूप में महाप्रसादी वितरण की जाएगी।
बाबा गुमानदेव हनुमान मंदिर –पीपलीनाका रोड़ स्थित बाबा गुमानदेव हनुमान गढ़ी पर आज से श्रावण महोत्सव प्रारंभ होगा। पुजारी चंदन व्यास ने बताया कि दोपहर में पं राम शुक्ल के आचार्यत्व में 11 वेदिक ब्राह्मणों द्वारा सिद्धेश्वर महामंगलेश्वर महादेव का पंचामृत पुजन अभिषेक कर महोत्सव प्रारम्भ होगा जो श्रावण मास में नित्य इसी समय होगा। श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को भजन संध्या, सितार वादन, कत्थक, चित्रकला, वैदिक संगोष्ठी जैसे सांस्कृतिक धार्मिक आयोजन होंगे। 25 अगस्त को उक्त आयोजन का विराम होगा। सांस्कृतिक आयोजनों का समय रात्रि 8 से 10 कोरोना गाइडलाइन का का पालन कर होगा।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
%d bloggers like this: