Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन
हत्या और प्राणघातक हमले के मामले में चल रही सुनवाई पूरी होने के बाद न्यायालय ने अपना फैसला सुना दिया है। हत्या करने वाले दो आरोपियों को आजीवन कारावास दिया गया है वहीं प्राणघातक हमले में शामिल सात आरोपियों को सात साल की सजा सुनाई गई है।
उपसंचालक अभियोजन डॉ. साकेत व्यास ने बताया कि गब्बू व पति शकील खां के साथ नाहरू पिता मतीन खां ने 17 फरवरी 2018 को परिजनों के साथ मिलकर मारपीट की थी। मामले में राजीनामे के लिए नाहरू ने शकील की बहन शबाना, भाई रफीक, पत्नी गबू और पिता चांदखॉ को गाडी अड्डा पर बुलाया था। यहां नाहरू, शाहिद पठान पिता शहजाद खां, अब्दुल वहीद पिता अब्दुल रशीद जलील, गोलू उर्फ शाईन पिता सुल्तान खां, सुल्तान पिता बाबू खान, अब्दुल वाजिद पिता वाहिद कुरैशी, शाहबाज खान पिता शहजाद खान, नाहरू पिता मतिन खान आए और राजीनामा नहीं करने पर कट्टे से गोली चलाने के साथ ही चाकू, तलवार व सरिए से हमला कर दिया। घटना में रफीक, गबू सहित चार गंभीर रूप से घायल हो गए। कोतवाली पुलिस ने एक किशोर सहित सातों पर केस दर्ज किया था। मामले में दोनों पक्षों को सुनने के बाद बुधवार को नवम अपर सत्र न्यायाधीश अंबुज पाण्डेय ने फैसला सुनाया। उन्होंने सातों को दोषी सिद्ध होने पर प्राणघातक हमले में सात-सात साल की सजा के साथ अन्य धाराओं में भी सजा दी। प्रकरण में शासन की ओर से एजीपी रविन्द्र सिंह कुशवाह ने पैरवी की। मामले में अभियुक्तों ने कोर्ट से उनकी आर्थिक व सामाजिक दशा को देखते हुये सहानुभूति विचार करने की अपील की थी। लेकिन कोर्ट ने कहा कि राजीनामा से मना करने पर पीडि़तों पर घातक हथियारों से जानलेवा हमला करने वाले किसी सहानुभूति के पात्र नही हैं।
पत्थरों से पीटकर की थी हत्या
मक्सीरोड उद्योगपूरी निवासी युवक 27 अप्रैल 2017 को लापता हो गया था। उसके बड़े भाई द्वारा दर्ज गुमशुदगी पर पुलिस ने खोजबीन के बाद मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर देवास के शिव पिता नगजीराम व आगर के श्यामलाल पिता कालूजी को पकड़ा था। शिव ने कबूला था कि भांजी से हुए दुष्कर्म का बदला लेने के लिए युवक को धोखे से अपहरण कर ले गए और विजयागंज मंडी स्थित सुनवानी गोपला स्थित नाले के पास शराब पीलाकर पत्थर मार-मारकर हत्या कर दी। मामले में पुलिस ने दोनों पर केस दर्ज कर ेजेल भेजा था। मामले में अब तक की सुनवाई के बाद विशेष न्यायाधीश अश्वाक अहमद खांन ने फैसला सुनाया। उन्होंने शिव व श्याम को दोषी सिद्ध होने पर उम्र कैद व 5-5 हजार रुपए अर्थदंड दिया। साथ ही मृतक की पत्नी को दस हजार रूपये प्रतिकर राशि देने के आदेश दिए। प्रकरण में शासन का पक्ष उपसंचालक आरके चंदेल ने रखा।
जुआरी पकड़ाए- नीलगंगा थाना पुलिस को रात 8 बजे के लगभग सूचना मिली थी कि शांतिनगर में नाले के बाद छुपकर कुछ लोग जुआं खेल रहे है। प्रधान आरक्षक राहुल कुशवाह, आरक्षक योगेन्द्र परमार और भोजराज ने नाले के आसपास घेराबंदी की और दांव लगा रहे राजा प्रजापत, दिलीप प्रजापत, तेजकरण प्रजापत, लल्लू और बंटी को दबोच लिया। उसके पास से 15 हजार रुपये नगद और ताशपत्ती जब्त की गई।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!