Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

शहर में आवारा कुत्तों का आतंक, लोगों पर कर रहे हमला

उज्जैन। शहर में सड़को पर आवारा कुत्तों का आतंक दिखाई दे रहा है। दिन-रात राह चलते लोगों को अपना शिकार बना रहे है। अंधेरा ढलने के बाद इनकी दहशत गली-मोहल्लों से मुख्य मार्गो पर निकले वालों में देखी जा सकती है।
नगर निगम का आवारा मवेशी और श्वान पकड़ो अभियान बंद होने के बाद पिछले डेढ़ माह से कुत्तों का आतंक काफी बढ़ गया है। इनके शिकार लोगों का बढ़ता आंकड़ा जिला अस्पताल में साफ दिखाई दे रहा है। प्रतिदिन 20-25 महिला-पुरुष और बच्चे उपचार के लिये पहुंच रहे है। शहर की गली हो या मोहल्ला पांच से सात कुत्तों की टोलियां हर जगह देखी जा सकती है। मुख्य मार्गो पर भी इनका आतंक बना हुआ है। यह राह चलते लोगों को अपना शिकार बना रहे है। अंधेरा ढलने के बाद मार्गो से बाइक पर सवार होकर गुजरना भी परेशानी भरा बना हुआ है। कुत्तों के पीछे लगते ही चालक का संतुलन बिगड़ जाता है और दुर्घटना का अंदेशा बढ़ जाता है। फोरव्हीलर पर ऐसे लपकते जैसे कांच तोड़कर अंदर बैठे व्यक्ति पर हमला कर देगें। कई क्षेत्रों में लोगों ने बच्चों का घर के बाहर खेलना बंद कर दिया है। लगातार बढ़ते कुत्तों के आतंक के बावजूद नगर निगम अपना अभियान बंद किये बैठा है।
प्रतिदिन 50 से 60 को रेबिज इंजेक्शन
जिला अस्पताल की ओपीड़ी में प्रतिदिन सुबह के समय कुत्तों का शिकार 20 से 25 नये लोग उपचार के लिये पहुंचे रहे है। जिन्हे रेबिज वैक्सीन का डोज लगाया जा रहा है। साथ ही वैक्सीन का दूसरा, तीसरा डोज लगवाने के साथ संख्या 60 के करीब पहुंच रही है। जिला अस्पताल में रेबिज का इंजेक्शन मुफ्त लगाया जाता है। बाजार में इसकी कीमत 400 रुपये के लगभग है। कुत्ते के काटने पर एक व्यक्ति को चार डोज लगाने पड़ते है। जिसे इंफेक्शन को रोकने में मदद मिलती है।
एक व्यक्ति को 4 से 5 डोज
कुत्ते के काटने पर पहले पेट में 14 इंजेक्शन लगाये जाते थे। लेकिन अब चार से पांच डोज ही लगाये जाते है। डॉ. रविन्द्र चंद्रावत के अनुसार कुत्तों की लार में रेबिज होता है। अगर इंसान को कटाने पर कुछ दिन में कुत्ता मर जाता है तो खतरा ज्यादा बढ़ सकता है। कुत्ते के काटने पर इंफेक्शन का असर कई सालों बाद भी हो सकता है।
15 मिनट तक पानी से हुए घाव

जिला अस्पताल में पदस्थ डॉ. चंद्रावत ने बताया कि कुत्ते के काटने पर सबसे पहले घाव को पानी से 15 मिनिट तक धोना चाहिये। जिससे इंफेक्शन को साफ किया जा सके। घाव पर साबुन लगा सके है। अगर खून बह रहा है तो उसे रोकने का प्रयास नहीं करे। घाव को खुला रखे, कुत्ते के काटने पर लापरवाही ना बरते और डॉक्टर से उपचार कराकर वैक्सीन लगवाये। लापरवाही करने पर घातक परिणाम हो सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: