Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

विधायक दल की बैठक में नया नेता चुनने का आदेश, सिद्धू के सलाहकार बोले- यह कांग्रेसी मुख्यमंत्री चुनने का मौका
जालंधर।
पंजाब कांग्रेस में मचा घमासान अब इस हद तक बढ़ गया है कि अब कैप्टन अमरिंदर सिंह की सीएम की कुर्सी जाती दिख रही है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस हाईकमान ने कैप्टन से इस्तीफा मांग लिया है। इसके अलावा शाम को होने वाली विधायक दल की बैठक में नया नेता चुनने का आदेश दिया है। हालांकि, कैप्टन खेमा इसका खंडन कर रहा है, लेकिन सिद्धू ग्रुप में बढ़ी हलचल को देखते हुए इसका अंदाजा लगाया जा रहा है।
बड़ा सवाल यह हो गया है कि सम्मानजनक विदाई के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह इस्तीफा देंगे या फिर विधायक दल की बैठक में ही अविश्वास प्रस्ताव का सामना करेंगे। कैप्टन ने करीब 2 बजे अपने खेमे की बैठक बुलाई है और विधायकों को वहां आने को कहा है। इससे पहले कैप्टन से नाखुश 40 विधायकों की चि_ी के बाद कांग्रेस हाईकमान ने बड़ा फैसला लेते हुए आज शाम 5 बजे चंडीगढ़ स्थित पंजाब कांग्रेस भवन में विधायक दल की बैठक बुलाई है। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। जिसके बाद रावत ने शुक्रवार आधी रात को सोशल मीडिया पर विधायक दल की मीटिंग के बारे में जानकारी दी है। इस मीटिंग में केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर अजय माकन और हरीश चौधरी भी मौजूद रहेंगे और पूरी रिपोर्ट तैयार कर हाईकमान को भेजेंगे। इसी बीच प्रदेश कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू के रणनीतिक सलाहकार पूर्व डीजीपीमुहम्मद मुस्तफा ने ट्वीट के जरिए कहा कि पंजाब के विधायकों के पास साढ़े 4 साल कांग्रेसी सीएम चुनने का मौका है। साफ तौर पर उन्होंने कैप्टन अमरिंदर सिंह के कांग्रेसी होने को ही नकार दिया। मुस्तफा बोले कि 2017 में पंजाब ने कांग्रेस को 80 विधायक दिए। इसके बावजूद कांग्रेसियों को आज तक कांग्रेसी सीएम नहीं मिला। मुस्तफा ने यहां तक कहा कि करीब साढ़े 4 साल में कैप्टन ने पंजाब व पंजाबियत के दर्द को दिल से नहीं समझा। मुस्तफा ने कहा कि 80 में से 79 (कैप्टन को छोड़कर) विधायकों के पास सम्मान पाने व जश्न मनाने का मौका है। पंजाब कांग्रेस की तरफ से प्रधान नवजोत सिद्धू ने भी विधायक दल की बैठक को लेकर ट्वीट किया है। वहीं, उनके करीबी संगठन महासचिव विधायक परगट सिंह ने कहा कि पार्टी की अंदरुनी नीतियों पर चर्चा को लेकर यह बैठक बुलाई गई है। हर किसी का अपना नजरिया है और उसे विधायक दल की बैठक में सुना जाना चाहिए। इसमें क्या परेशानी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *