Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

मध्यप्रदेश का था गौरव, खेल खिलाड़ी का फिल्म से हुई थी शुरुआत
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

मध्य प्रदेश का गौरव माने जाने वाले तिमूर्ति टॉकीज पर आज से हथौड़े चलना शुरू हो गए। पिछले 10 सालों से टॉकीज बंद पड़ा था। अब टॉकीज के स्थान पर भव्य कंपलेक्स का निर्माण किया जाएगा।
शहर के मध्य सबसे पहला सिनेमाघर त्रिमूर्ति टॉकीज के नाम से बनाया गया था। यह मध्यप्रदेश के गौरव में शामिल हुआ। 1977 में टॉकीज की शुरुआत धर्मेंद्र की फिल्म खेल खिलाड़ी से हुई थी। एक सिनेमाघर में सबसे बड़ा पर्दा फिल्म दिखाने के लिए लगाया गया था। लंबे समय तक कई फिल्मों का प्रदर्शन किया गया। लेकिन संचार क्रांति और बदलते समय के साथ टॉकीज में फिल्म देखने का क्रेज कम होता चला गया। वर्ष 2011 में त्रिमूर्ति टॉकीज को आर्थिक नुकसान होने की वजह से बंद कर दिया गया था। उसके बाद से टॉकीज खंडहर में तब्दील होने लगा था। मालिक अग्रवाल परिवार ने इस स्थान पर कांपलेक्स बनाने का निर्णय लिया है। जिसके चलते आज से टॉकीज को तोडऩे की शुरुआत कर दी गई है।
14 लाख में दिया गया ठेका
बताया जा रहा है कि टॉकीज को जोडऩे के लिए 5 ठेकेदारों द्वारा 14 लाख में ठेका लिया गया है। 4 माह में टॉकीज तोडऩे का काम पूरा किया जाना है। 11 नवंबर 2011 को बंद किए गए टॉकीज में अंतिम फिल्म फोर्स लगाई गई थी। टॉकीज बंद होने के बाद से यहां सामान चोरी करने की वारदातें भी लगातार सामने आने लगी थी।
बैठने की सबसे अच्छी थी व्यवस्था
बताया जा रहा है कि त्रिमूर्ति टॉकीज में सबसे बड़ा पर्दा फिल्म देखने के लिए लगाया गया था। वही दर्शकों के बैठने के लिए सबसे पहले गद्दीदार सीट भी इसी टॉकीज में लगाई गई थी। एक बार में सैकड़ों दर्शक फिल्म देख सकते थे। 90 से 2002 तक त्रिमूर्ति टॉकीज अपने आप में सबसे बड़े टॉकीज के रूप में उभर कर सामने आया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *