Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

गोरखपुर। कानपुर के इडब्लूएस बर्रा-3 निवासी कारोबारी मनीष गुप्ता की हत्या के आरोपित निलंबित थानेदार जगत नारायण सिंह सहित छह पुलिस कर्मी रात में करीब डेढ़ बजे मुकदमा दर्ज होते ही भाग निकले। गोरखपुर पुलिस ने उन्हें पकडऩे पर विशेष ध्यान भी नहीं दिया, जबकि मंगलवार करीब 12 बजे ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को पता चल गया था कि थानेदार सहित कई पुलिस कर्मियों की भूमिका घटना में संदिग्ध है। मंगलवार की रात मनीष गुप्ता की हत्या के बाद निलंबित थानेदार ने एसएसपी डा.विपिन ताडा को झूठी कहानी सुना दी थी। उन्होंने उन्हें बताया था कि मंगलवार रात में मनीष व उसके दोस्त नशे में थे। नशे में वह अपने बेड से नीचे गिरा और उसकी नाक में गंभीर चोट लग गई थी। उसे इलाज के लिए निजी अस्पताल व बीआरडी मेडिकल कालेज ले जाया गया। वहां इलाज के दौरान मनीष की मौत हो गई थी, लेकिन दोपहर करीब 12 बजे मनीष की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता ने एसएसपी के पास एक रिकार्डिंग भेजी जिसमें मनीष ने अपने भांजे के दोस्त दुर्गेश के पास कर बताया था कि पुलिस उसके साथ दुर्व्यवहार कर रही है। आडियो सुनने के बाद ही एसएसपी को पता चल गया था कि थानेदार उनसे झूठ बोल रहे थे। उन्होंने आडियो के आधार पर सभी छह पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *