Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

गर्लफ्रेंड को भीख मांगने के लिए मजबूर करता था युवक, कमाई कम हुई तो घोंपा पेंचकस

नईदिल्ली। प्यार में धोखेबाजी और बेवफाई के किस्से आपने सुने होंगे, लेकिन कोई अपनी गर्लफ्रेंड से भीख मंगवाए, शायद ऐसा आपने पहले नहीं सुना होगा। पीटर्सबर्ग के रहने वाले 21 साल के काइल हेल्म ने अपनी 22 साल की गर्लफ्रेंड निकोल से न सिर्फ भीख मंगवाई, बल्कि उसके साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार भी किया।
रिश्तों में मारपीट और दुर्व्यवहार का इससे बुरा उदाहरण आपने नहीं देखा होगा। 21 साल के काइल हेल्म ने निकोल से रिलेशनशिप में आने के बाद से ही उससे गुलामों जैसा बर्ताव किया। गनीमत ये रही कि एक दिन किसी शख्स ने निकोल के शरीर पर घाव देखकर पुलिस बुलाई और काइल हेल्म को गिरफ्तार किया जा सका। कोर्ट ने काइल को उसके जुर्म के लिए 4 साल की सजा सुनाई है। सितंबर 2016 में हेल्म से निकोल की मुलाकात एक हॉस्टल में हुई। तब निकोल 17 साल की थीं। उसके ब्वॉयफ्रेंड को उन दिनों से ही नशे की लत थी और एक दिन उसने निकोल के मुंह पर पंच जड़ दिया। हालांकि माफी मांगने के बाद निकोल ने हेल्म से रिश्ते सामान्य कर लिए। घटना के कुछ ही हफ्ते बाद हेल्म ने उसे हॉस्टल से निकाल दिया। निकोल का कहना है कि हेल्म उसकी सभी हरकतों पर नजऱ रखता है। उसे सिर्फ इनकमिंग वाला एक फोन दे रखा था और निकोल को किसी भी अजनबी से बात करने की इजाजत नहीं थी। एक दिन हेल्म की मुलाकात एक बेघर युवक से हुई। हेल्म ने उसे भीख मांगने से होने वाली कमाई के बारे में पूछा और अगले दिन से अपनी गर्लफ्रेंड को इसी काम पर लगा दिया। पीटरबरो टाउन सेंटर पर रोज भीख मांगने से होने वाली कमाई हेल्म अपने पास रख लेता था। निकोल को सिर्फ 10 पाउंड खर्चे के लिए मिलता था। जब तक वो भीख मांगती थी, तब तक खुद हेल्म घंटों सड़क पर खड़े होकर निकोल पर नजऱ रखता था। एक दिन जब उसकी कमाई 20 पाउंड से कम हुई तो ब्वॉयफ्रेंड ने निकोल पर पेंचकस से वार कर दिया। जब उसकी पीठ पर किया गया वार असफल रहा, तो हेल्म ने निकोल के घुटने पर दो-तीन जगह पेंचकस घोंपा। इतना ही नहीं उसके सिर पर भी कांच की बोतल फोड़ दी। इस हालत में भी वो भीख मांगने गई थी। आखिरकार जब किसी युवक की मदद से उसने हेल्म की पुलिस में शिकायत की, तब उसे दलदल से आज़ादी मिल सकी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: