Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

शिप्रा में 2 दिन पहले कूदे मेडिकल व्यवसायी के भाई ने भी नदी में लगाई छलांग

फेसबुक पर अपलोड की दो पोस्ट, नरसिंह घाट पर खड़ी की एक्टिवा
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन। शिप्रा नदी में कूदने वाले मेडिकल व्यवसायी के भाई ने आज सुबह उसी स्थान पर पहुंच कर नदी में छलांग लगा दी जहां से उसके भाई ने कूदकर जान दी थी। पुलिस और गोताखोर की टीम ने दो घंटे की मशक्कत के बाद उसका शव नदी से खोज निकाला
साईं धाम कॉलोनी में रहने वाले मेडिकल व्यवसायी प्रवीण चौहान ने 9 अक्टूबर की सुबह 7 बजे नृसिंह घाट ब्रिज से शिप्रा नदी में छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली थी। आज उसका (तीसरा) उठावना था। परिजन और रिश्तेदार एकत्रित हुए थे। इसी बीच 10 बजे के लगभग सूचना भाई की प्रवीण के छोटे भाई पीयूष चौहान ने भी उसी स्थान पर पहुंच कर शिप्रा नदी में छलांग लगाई है जिस स्थान से उसका बड़ा भाई कूदा था। सूचना मिलते ही महाकाल थाना पुलिस की डायल हंड्रेड मौके पर पहुंच गई। पीयूष की एक्टिवा ब्रिज पर खड़ी होना पाई गई जितनी चाबी लगी थी और डिक्की में सुसाइड नोट पर रखा हुआ था जो संभवत उसके भाई द्वारा आत्महत्या से पहले लिखा जाना होने की आशंका जताई गई है। पुलिस ने एक्टिवा की चाबी अपनी कस्टडी में ली है जिसे बाद में डिक्की खोल कर देखेगी। पुलिस ने गोताखोरों की मदद से पीयूष की तलाश शुरू की है। परिजन जानकारी लगने पर नृसिंह घाट ब्रिज पहुंच गए थे। 3 दिन में ही परिवार के 2 सदस्यों द्वारा उठाए गए कदम से परिवार काफी गमगीन दिखाई दे रहा था। तलाशी के दौरान गोताखोरों ने 11.30 बजे के लगभग उसका शव नदी से खोज निकाला। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया है।
फेसबुक पर अपलोड की पोस्ट
पीयूष चौहान ने नदी में छलांग लगाने से पहले फेसबुक पर दो पोस्ट अपलोड की जिसमें उसने लिखा था कि मेरे पापा को यह जरूर कह देना सोनू और पीयूष गए हैं व्यवस्था करने। दादी और मम्मी से बात करके बता देंगे फिर आप आ जाना। वहीं दूसरी पोस्ट मैं लिखा था कि भैया मैं उस राख के ढेर में तुझे ढूंढ रहा था पर तू मुझे मिला नहीं। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है अब क्या करना है। तू मुझको बता दे यार अब क्या करूं मैं तुझसे पूछने आ रहा हूं। बताया यह भी जा रहा है कि उसने फेसबुक पर कॉलोनियों के रहवासियों को लेकर भी एक पोस्ट फेसबुक पर की थी। उसके विचारों पर कई कमेंट भी उसके साथियों ने किए थे।
भाई की मौत के बाद भी अपलोड की थी पोस्ट
गौरतलब हो कि मेडिकल व्यवसायी चौहान की मौत के बाद उसका सुसाइड नोट मिला था। जिसमें प्रॉपर्टी को लेकर कर्ज होने और परेशान होने की वजह से आत्महत्या की बात लिखी गई थी। जिसके बाद पीयूष ने फेसबुक पर एक पोस्ट अपलोड की थी जिसमें उसने लिखा था कि कलेक्टर, एसपी साहब आज फिर सूदखोरों से एक जिंदगी खत्म हो गई। वह मुझ पागल का भाई था। आप कानून व्यवस्था संभालो मैं सूदखोरों को संभालने आ रहा हूं। नृसिंह घाट से उसको कूदते देख एक युवक ने उसे बचाने का प्रयास किया था। वह भी नदी में कूदा लेकिन पीयूष गहरे पानी में जा चुका था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: