Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

वीरान जमीन पर सीसी रोड का निर्माण करना चाहते हैं प्रभारी सीएमओ अशोक चौहान

माटी की महिमा न्यूज/थांदला
एक कहावत में कहते हैं नाचे कूदे बांदरी और खीर खाए फकीर। पूरे मध्यप्रदेश में थांदला की नगर परिषद एक बार फिर से सुर्खियों में नजर आ रही है। ऐसा ही एक मामला वार्ड 15 में जहां पर वीरान पड़ी भूमि पर नगर परिषद सीसी रोड या सड़क का निर्माण करना चाहती है। नगर परिषद द्वारा केशव उद्यान के पीछे संस्कार पब्लिक स्कूल से साईं मंदिर तक सीसी रोड बनाने के लिए 26 अगस्त 2020 को ऑनलाइन निविदा जारी की गई 7 अक्टूबर को निविदा संपन्न भी हो गई। निविदा में 3 नंबर पर इस कार्य को बनाया बताया गया है जिसकी लागत लगभग 2400000 लाख रूपये बताई गई है। जिस भूमि पर सीसी रोड सड़क का निर्माण किया जाना है वह पूरी तरह से बिना बसावट वाला है। वहां पर शासकीय नजूल भूमि नाला तथा बगीचे की भूमि है तथा कुछ निजी भूमि है। निजी भूमि के मालिकों का कहना है जहां कोई रहता ही नहीं तो सीसी रोड या सड़क का उपयोग कौन और कैसे करेगा। ऐसे में सड़क सीसी रोड का निर्माण कर उपदेश सीधे-सीधे भू माफियाओं को लाभ पहुंचाने का है जिससे नगर की जनता आक्रोश है। यहां के पार्षद भी विरोध में है। नगर परिषद के नेता प्रतिपक्ष लक्ष्मण राठौर ने बताया परिषद की बैठक में मार्ग निर्माण पर मैंने विरोध दर्ज करवाते हुए इसे जनता के धन का दुरुपयोग बताते हुए प्रस्ताव निरस्त करने को कहा था लेकिन बात नहीं सुनी गई। वार्ड 15 के पार्षद पीटर बगरिया ने कहा मैंने भी मांग की थी कि मेरे वार्ड के सघन बसावट वाले जर्जर और खराब हालत वाले मार्ग को पहले बनाया जाना उचित होगा। हालांकि नगर के दो पत्रकारों ने वार्ड 15 के सीसी रोड का दुरुपयोग बताते हुए सीधे-सीधे भू माफिया को निजी तौर पर लाभ पहुंचाने का विरोध भी किया है। उस रोड पर नगर की जनता का कोई उपयोग नहीं बताया गया। आवेदन प्रस्तुत कर विरोध किया।
कलेक्टर ने एसडीएम को पत्र लिखकर जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने को कहा। एसडीएम जांच करवा कर स्पष्टीकरण करवाते हैं। यह हल्का पटवारी अशरफ खान के ही ऊपर निर्भर करता है कि जांच वास्तविक रुप से करनी है या भू माफियाओं से मिलकर गुड कुलड़ी में ही फोडऩा है। 3 से 4 वर्ष पूर्व सुनीता पति पूनमचंद मिस्त्री की परिषद में संस्कार पब्लिक स्कूल के पीछे वाली जगह पर सफाई कर्मियों हेतु वाल्मीकि नगर बनाया एवं उन्हें बसाने के लिए पट्टे भी दिए गए थे। जिस जगह पर सफाई कर्मियों को पट्टे भी दिए गए हैं आज वर्तमान में उन सफाई कर्मियों के मकान व घर भी हैं। उस जगह पर शिक्षा के मंदिर के व्यवसाय के एक निजी स्कूल संचालक ने लिज हेतु आवेदन भी दे चुका था। अपनी निगाहें 3 से 4 वर्ष पहले ही लगा रखी थी ताकि उस जगह पर स्कूल परिसर में मैदान नही होने पर उस जगह पर स्कूल के बच्चे को खेलने का मैदान बना लिया जाएगा। पर बात नहीं बन पाई या यूं कहें कि सेटिंग नहीं हो पाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: