Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

जहरीली शराब से मरे मृतकों को कलेक्टर और निगमायुक्त के हटने के बाद ही इंसाफ मिलेगा- महेश परमार विधायक तराना 

उज्जैन, जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला थम ही नहीं रहा है इसमें अकेली पुलिस विभाग ही दोषी नहीं है बल्कि आबकारी विभाग और नगर निगम का अमला भी इसमें पूर्णरूपेण दोषी है जिस प्रकार एसपी मनोज सिंह ने 2..4 टीआई और छोटे पुलिसकर्मियों को निलंबित कर मामले में लीपापोती करनी चाही,उसी प्रकार ही राज्य सरकार व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह सिर्फ एसपी को हटाकर और दो चार स्थानांतरण करके मामले की इति श्री  नहीं कर सकते, उन्हें कलेक्टर आशीष सिंह और निगम आयुक्त क्षीतिज  सिंघल को भी बराबर का दोषी मानना चाहिए और उन्हें तत्काल हटाने के आदेश देने चाहिए यह बात तराना विधायक कांग्रेस के महेश परमार ने कही है और मांग की है कि संपूर्ण घटना की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच हो मृतकों के लिए मुआवजा की तुरंत घोषणा की जाए,, जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विवेक गुप्ता एडवोकेट ने बताया कि विधायक महेश परमार ने यह भी कहा है कि कलेक्टर आशीष सिंह और क्षीतीज सिंगल आयुक्त नगर निगम बेहद लापरवाह अधिकारी हैं केवल भाजपाइयों को खुश करने में लगे रहते हैं और चाटुकारिता में लगे रहते हैं,उन्होंने लॉ ऐण्ड  ऑर्डर की व्यवस्था पर ध्यान दिया होता और 14 अक्टूबर को ही प्रशासनिक अमला सक्रिय कर दिया होता तो बाकी  की मौतें नहीं होती, कलेक्टर की लापरवाही बिल्कुल क्षमा की योग्य नहीं है उन्हें इसका दंड मिलना चाहिए और मुख्यमंत्री को तत्काल कलेक्टर को हटाने के आदेश देने चाहिए।विधायक महेश परमार ने यह भी घोषणा कर दी है कि कलेक्टर आशीष सिंह और निगमायुक्त श्री सिंघल की लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना रवैया विधानसभा में उठाएंगे । जिस प्रकार यह दोनों अधिकारी मिलकर के सिहस्थ अधिसूचित क्षेत्र को मुक्त करने की योजना बना रहे हैं और उसमें बेशकीमती जमीन छोड़ने की योजना बना रहे हैं इसकी शिकायत भी की जाएगी ।

15 लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई और उज्जैन उत्तर के माननीय नदारद, संवेदना पूरी तरह से मर चुकी

प्रदेशभर को झकझोर देने वाली घटना के घटने के कई दिनों बाद भी क्षेत्रीय विधायक की चुप्पी समझ से परे है। 15 लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई और उज्जैन उत्तर के माननीय नदारद, संवेदना पूरी तरह से मर चुकी है।
उक्त वक्तव्य जारी करते हुए शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष विवेक यादव ने कहा कि जहरीली शराब पीने से 15 लोगों की मृत्यु होने की गंभीरतम घटना धार्मिक नगरी उज्जैन में घटी इस घटना में मूल दोषियों को बख्शा जा रहा है, छोटे मोहरों पर कार्रवाई कर मध्यप्रदेश सरकार असली माफियाओं को बचा रही है। सरकार के विधायक और पूर्व मंत्री जिनके विधानसभा क्षेत्र में यह घटना घटी है उनकी भी कोई जवाबदारी तय होनी चाहिए। कहने को तो वह क्षेत्र के निर्वाचित जनप्रतिनिधि है किंतु अभी तक ना तो वे मृतक परिवार से मिलने और संवेदना प्रकट करने पहुंचे ना ही घटना पर उन्होंने अपनी कोई प्रतिक्रिया जाहिर की। जबकि अभी तक उन्हें मध्यप्रदेश सरकार से मृतक परिवारों को मुआवजा दिलवा देना चाहिए था किंतु जबसे घटना घटी है तब से लेकर अभी तक पारस जैन की चुप्पी कई सवाल खड़े कर रही है। कांग्रेस के यादव ने कहा कि पारस जैन मंत्री नहीं बनने से निराशा में घिरकर घर में बैठ गए हैं जनहित के मुद्दों पर उनका कोई सरोकार नहीं है। कोरोना संकट में ऑडी गाड़ी की अनेकों लापरवाहीयों को सिर्फ इन्हीं के दबाव में अनदेखा किया गया। सर्वविदित है घटना में जिन छोटे छोटे आदमी नगर निगम के अस्थाई कर्मियों पर कार्यवाही की गई बजाय उसके सबसे बड़े खलीफा सुबोध जैन की संपत्ति की भी जांच होनी चाहिए। उनका इस घटना की एफ आई आर में नाम होना चाहिए क्योंकि सुबोध जैन ही पिछले कई सालों से उज्जैन में नगर निगम के अवैध कामों को अंजाम दे रहे हैं। सुबोध जैन का निलंबन कोई मायने नहीं रखता उनको अपराधी बनाना चाहिए और उनकी संपत्ति की जांच करनी चाहिए। साथ ही जिला कलेक्टर और एसपी की भूमिका की जिम्मेदारी देकर उन्हें भी तत्काल पद से हटाना चाहिए। विवेक यादव ने नगर निगम प्रशासन पर भी सवाल खड़े करते हुए कहा कि कोई जहरीली शराब बेच रहा है तो कोई ठेकेदारों को आत्महत्या करने पर मजबूर कर रहा है नगर निगम की संपत्ति में शराब के कारखाने चल रहे हैं आखिर यह कैसी नगर निगम है युवा शुभम खंडेलवाल के हत्यारे अभी तक पुलिस गिरफ्त से दूर है हत्यारे इंजीनियरों की संपत्ति को भी जप्त कर उन्हें तत्काल गिरफ्तार करना चाहिए। साथ ही जो कार्रवाई सुल्तान और गब्बर व अन्य पर की गई वही कार्यवाही उपायुक्त सुबोध जैन पर भी होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: