Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

शहर के नए और पुराने शहर को जोडऩे वाले प्रमुख मार्ग पर बना स्वयंभू मां छत्रेश्वरी चामुंडा का दरबार अतिप्राचीन है। माता के दर्शन करने मात्र से श्रद्धालुओं की मनोकामना पूरी हो जाती है। यहां माता दो स्वरूपों में विराजमान है।
आज से नौ दिवसीय शारदीय नवरात्रि का आगाज हो गया है। मां छत्रेश्वरी चामुंडा के दरबार में घटस्थापना के साथ विशेष पूजा अर्चना की गई और धार्मिक अनुष्ठानों की शुरुआत हो गई। मंदिर के पुजारी सुनील चौबे के अनुसार इस मंदिर में माता पूर्व दिशा की ओर मुख करके विराजित है। मंदिर का जीर्णोद्धार 1971 में हुआ था। शारदीय नवरात्र की महाष्टमी पर माता की शासकीय पूजा होती है। चैत्र नवरात्र तथा अंग्रेजी नववर्ष की पहली तारीख पर मंदिर में माता को छप्पन भोग लगाया जाता है तथा फूलों व फलों से आकर्षक सज्जा की जाती है। छत्रेश्वरी चामुण्डा माता मंदिर में परिक्रमा पथ पर नवदुर्गा की मूर्तियां भी विराजित हैं। पृष्ठ भाग में हनुमान, महाभैरव तथा शिव का मंदिर भी है। भक्तों का कल्याण करने वाली माता चामुण्डा को मंगलकरणी भी कहा गया है। इसलिए मंगलवार के दिन माता के दर्शन-पूजन का विशेष महत्व है। माना जाता है कि बारह मंगलवार तक लगातार छत्रेश्वरी चामुंडा माता के दर्शन करने से मनोकामना पूर्ण हो जाती है। छत्रेश्वरी चामुंडा माता मंदिर प्रसिद्ध हिन्दू धार्मिक स्थान है। माता के दरबार में मंदिर समिति द्वारा बारह ज्योतिर्लिंग की छवि उकेरी गई है वहीं विश्व के चारधामों का भी चित्रण किया गया है। प्रतिदिन माता के दरबार से सैकड़ों लोगों को भोजन प्रसादी भी वितरित की जाती है जिसमें शहरवासियों का सहयोग भी रहता है। मां छत्रेश्वरी चामुण्डा माता के प्रतिदिन लाखों श्रद्धालु दर्शन करते हैं। शहर के मध्य में बने मंदिर का चौराहा माता के नाम से ही जाना जाता है। यहां से गुजरने वाला हर व्यक्ति माता का नमन कर ही निकलता है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!