Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

तीन माह बाद खुला अंधे कत्ल का राज, प्रेम प्रसंग में हत्या कर सीमेंट के पिलर से बांध नदी में फेंकी थी लाश

चार आरोपी हिरासत में, शराब पार्टी के बाद लाठियों से पीटकर घटना को दिया था अंजाम
माटी की महिमा न्यूज /उन्हेल

चामला नदी में सीमेंट के पिलरों से बंधी युवक की लाश का मामला अंधा कत्ल बन चुका था। जिसका खुलासा शनिवार को पुलिस ने कर दिया। चार आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। प्रेम प्रसंग के चलते हत्याकांड को अंजाम दिया गया था।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण आकाश भूरिया ने बताया कि 11 जुलाई को चामला नदी से ग्राम कडिय़ाली के चौकीदार तुलसीराम की सूचना पर एक युवक की लाश बरामद की गई थी। जिसे सीमेंट के पिलरों से बांधकर नदी में फेंका गया था। मृतक की शिनाख्त आकाश पिता चतरसिंह नायक 18 वर्ष निवासी बडऩगर के रूप में हुई थी। मृतक वेल्डिंग कारखाने में काम करता था जिसके लापता होने की जानकारी परिजनों ने बडऩगर थाने में दर्ज कराई थी। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू की थी लेकिन समय बीतने के साथ घटनाक्रम अंधे कत्ल के रूप में सामने आने लगा था। उन्हेल सीएसपी मनोज रत्नाकर, टीआई डीआर जोगावत ने मामले को गंभीरता से लेकर एसआई एससी शर्मा, पवन वास्कले, विक्रम चौहान, अनिल रावत, एएसआई राधेश्याम शर्मा की टीम बनाकर घटना स्थल से लेकर मृतक के कार्य स्थल तक की बारीकी से जांच शुरू की। इस दौरान सामने आया कि मृतक के कार्यस्थल से लेकर घटना स्थल तक मिथुन पिता देवीसिंह, दीपक पिता गिरधारी परिहार निवासी पीपला, लखन पिता कैलाश राठौर और उसके भाई पंकज निवासी ग्राम पलवा की मौजूदगी सामने आई। संदेह के आधार पर चारों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की गई जिन्होंने हत्या को अंजाम देना कबूल कर लिया। उन्होंने लाठी, डंडो से पीटकर हत्या करने के बाद लाश को सीमेंट के पिलर से बांधकर नदी में फेंकना बताया। चारों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है। चारों को न्यायालय में पेश कर चालान प्रस्तुत किया जाएगा।
मृतक की मंगेतर से चल रहा था प्रेम प्रसंग
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश भूरिया ने बताया कि आरोपियों को हिरासत में लेने के बाद पूछताछ में सामने आया कि मृतक आकाश की सगाई जिस युवती से हुई थी उससे हिरासत में लिए गए लखन का प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसे रास्ते से हटाने के लिए लखन ने अपने भाई और साथियों के साथ मिलकर हत्या की योजना बनाई। घटना वाले दिन मिथुन और दीपक आकाश को उसके घर से अपने साथ लेकर निकले। आकाश सहित हिरासत में लिए गए चारों युवकों ने दिनभर शराब पार्टी की और रात को एक ढाबे पर खाना खाने के बाद वहां से कुछ दूरी पर नदी किनारे डंडों से पीटकर आकाश की हत्या कर दी और लाश नदी में फेंककर भाग निकले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: