Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

अरब सागर में बना कम दबाव का क्षेत्र, रातभर से रिमझिम बारिश

न्यूनतम तापमान बढ़ा, कल तक छाए रह सकते हैं बादल
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

दिसम्बर माह में मौसम लगातार करवट बदलता नजर आ रहा है। दिन का तापमान कभी अधिक तो कभी कम बना हुआ है। न्यूनतम तापमान भी उतार-चढ़ाव के साथ दर्ज हो रहा है। इस बीच बीती शाम ढलने के साथ मौसम एक बार फिर बदल गया। अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने से देर रात रिमझिम बारिश शुरू हुई जो आज दोपहर तक जारी थी।
जीवाजी राव वेधशाला अधीक्षक राजेन्द्र कुमार गुप्त ने बताया कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने से शहर में बादल छाए हुए हैं। जिसके चलते मावठे की बारिश हो रही है। देर रात रिमझिम बारिश का दौर शुरू हुआ था। सुबह 6 बजे तक एक मिमी बारिश दर्ज की जा चुकी थी। रिमझिम बारिश रूक-रूककर हो रही है। आज दोपहर 12 बजे के लगभग फिर रिमझिम बरसात शुरू हो गई थी। शनिवार तक शहर में इसी तरह का मौसम बना रहेगा। रात में बारिश होने से सुबह आद्र्रता का प्रतिशत 92 दर्ज हुआ है। अभी कुछ दिन ठंड का असर कभी तेज तो कभी कम बना रहेगा। 25 दिसंबर के आसपास तेज ठंड की शुरुआत हो जाएगी।
न्यूनतम तापमान 17.8 डिसे पहुंचा
मौसम में आए बदलाव के बाद न्यूनतम तापमान में उछाल दर्ज किया गया है। जीवाजी राव वेधशाला के अनुसार रात को न्यूनतम तापमान 17.8 डिग्री दर्ज किया गया है। इससे पहले बुधवार-गुरुवार रात न्यूनतम तापमान 14 डिसे दर्ज हुआ था। गुरुवार को अधिक तापमान 32.2 डिसे दर्ज किया गया था। इससे पहले 4 दिसंबर को न्यूनतम तापमान 10 डिग्री के करीब पहुंच गया था। जिसके बाद से लगातार रात के तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही थी। अधिकतम तापमान भी 32 से 33 डिग्री के आसपास बना हुआ है।
गर्म कपड़ों में लिपटे रहे शहरवासी
रात को शुरू हुई रिमझिम बारिश के बाद आज सुबह शहरवासी गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए। इससे पहले तापमान में उतार-चढ़ाव के चलते गर्म कपड़ों की आवश्यकता महसूस नहीं की जा रही थी। मौसम में बदलाव होने के चलते बुजुर्ग और कम उम्र के बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ता हुआ भी नजर आया है। वैसे युवा वर्ग सुहाने मौसम का लुत्फ उठाता दिखाई दे रहा था। सुबह से ही सड़कों पर आवागमन काफी कम था। रिमझिम बारिश के रूक-रूककर होने पर सड़कें सूनसान भी दिखाई दे रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: