Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

4 डिग्री गिरा रात का तापमान, मौसम खुलते ही बढ़ी ठंड

5 दिनों बाद बादलों से बाहर आए सूर्य देव, लोगों ने लिया धूप का आनंद
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

कोहरे और बादलों की छटा आज सुबह साफ होती नजर आई। रात के तापमान में 4 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। मौसम खुलते ही ठंड भी बढ़ गई है। 5 दिनों बाद सूर्य देव दिखाई दिए हैं।
गुरुवार रात मावठे की बारिश के बाद मौसम ने करवट बदल ली थी। अरब सागर में बने कम दबाव के क्षेत्र से पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी के चलते धार्मिक नगरी में कोहरा छाया हुआ था। बादलों ने सूर्य देव को ढंक लिया था। 5 दिनों से धूप नहीं निकली थी और तापमान में उतार-चढ़ाव बना हुआ था। आज सुबह मौसम साफ हुआ है। बादल और कोहरा हटते ही सूर्य देव के दर्शन हो गए। इस बीच 6 किलोमीटर की रफ्तार से ठंडी बर्फीली हवा चल रही थी। रात का न्यूनतम तापमान 4 डिग्री गिरावट के साथ 13.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मंगलवार को अधिकतम तापमान 20 डिग्री दर्ज हुआ था। जीवाजीराव वेधशाला की माने तो मौसम साफ होने के बाद ठंड बढ़ेगी। हवा की रफ्तार भी तेज हो सकती है। बादल और कोहरे की वजह से तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही थी जो ठंडी हवा की वजह से कम होगा। कुछ ही दिन में कड़ाके की ठंड महसूस की जाएगी।

धूप में महसूस हो रही थी ठंडक
ठंडी हवा से बढ़ी ठंड के बाद आज सुबह जैसे ही सूर्य देव बाहर निकले लोगों ने धूप का आनंद लेने की तैयारी करते हुए छतों और घरों के बाहर का रुख कर लिया था। लेकिन हवा के चलते धूप में ठंडक घुली हुई थी। बाजार खुलने के बाद कई दुकानदार धूप का आनंद लेते नजर आए। धूप के बीच पहुंचे लोग गर्म कपड़े पहने नजर आ रहे थे। घरों में पालतू जानवरों को भी गर्म कपड़े पहना दिए गए थे।
छतों पर पतंगबाजी का माहौल
ठंड के बीच निकली धूप में पतंगबाजी का माहौल भी नजर आया। मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाएगी। इससे एक माह पहले ही बच्चों और युवाओं ने पतंगबाजी की शुरुआत कर दी है। धार्मिक नगरी में मकर संक्रांति का पर्व आस्था और उत्सव के साथ मनाया जाता है। इस बीच पतंग उड़ाई जाती है। 5 दिनों के कोहरे और सूर्य देव के नहीं निकलने के बाद आज सुबह जैसे ही मौसम साफ हुआ बच्चों ने छतों पर धूप में पहुंचकर पतंग उड़ाना शुरू कर दिया था जहां धूप का आनंद लिया जा रहा था वही पतंगबाजी से बच्चे मनोरंजन को पूरा कर रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: