Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

यूडीए कर्मचारी ने भी व्हाट्स एप पर लिखा था मैसेज
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

संचार क्रांति के युग में सोशल मीडिया व्हाट्स एप, फेसबुक लोगों के बीच अपनी सबसे बड़ी पहचान बना चुकी है। जिस पर अब लोग आत्महत्या करने से पहले अपने मौत के संदेश और वीडियो भेजने लगे हैं। बावजूद इसके आत्मघाती कदम उठाने वालों की जान नहीं बच पा रही है। मंगलवार दोपहर यूडीए कर्मचारी ने भी विभागीय व्हाट्स एप ग्रुप पर मैसेज भेजने के बाद खुद को गोली मार ली।

नानाखेड़ा थाना क्षेत्र के जवाहर नगर में रहने वाले योगेश सेन ने अपनी लायसेंसी 12 बोर की बंदूक से खुद को गोली मार ली। योगेश उज्जैन विकास प्राधिकरण में ड्रायवर के पद पर मस्टरकर्मी के रूप में पदस्थ था। आत्मघाती कदम उठाने से पहले उसने विभाग के व्हाट्स एप ग्रुप पर अपना फोटो अपलोड कर लिखा कि योगेश भाई नहीं रहे, आज ओपन लायसेंसी बंदूक से जीवन समाप्त कर लिया। जीवन में बहुत संघर्ष करो लेकिन अपनी जिंदगी से हार गए। योगेश के फोटो के साथ चंद लाइन विभाग के साथी ड्रायवर बद्री यादव ने देखी तो तत्काल योगेश के घर पहुंचा। दरवाजा खुला देख वह सीधा अंदर गया जहां लहूलुहान पड़े साथी कर्मचारी को देख अस्पताल लेकर पहुंचा। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। योगेश ने अपने कंधे और गले के बीच 12 बोर दो नाल की बंदूक रखकर ट्रिगर दबाया था। आज सुबह पुलिस ने उसका पोस्टमार्टम कराया है। विदित हो कि पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया लोगों के लिए आत्महत्या के संदेश और वीडियो भेजने का माध्यम बन चुका है। दो दिन पहले मालनवासा राजीव गांधी नगर में रहने वाले निजी अस्पताल के सफाईकर्मी मनीष डागर ने भी रात 2:55 बजे अपनी जान देने से पहले पंखे पर बंधे दुपट्टे का फोटो मोबाइल स्टेटस पर डाला था। साथ ही दोस्तों को बाय लिखा था और अपनी मर्जी से आत्महत्या करने की बात लिखी थी। कुछ माह पूर्व ढांचाभवन क्षेत्र में भी युवक ने आत्महत्या करने से पहले फेसबुक पर पत्नी से प्रताडि़त होकर लिखे गए सुसाइड नोट को वायरल किया था। शहर ही नहीं देश में इस तरह जान देने वाले अपने मैसेज सोशल मीडिया पर अपलोड कर रहे हैं। कुछ दिन पहले अहमदाबाद की रहने वाली युवती ने साबरमती नदी में कूदकर आत्महत्या करने से पहले हंसते हुए अपना वीडियो बनाया था जिसमें उसने अपने जीवन की परेशानी को बताने के बाद नदी में छलांग लगा दी थी। उसके परिजनों से फोन पर हुई बातचीत का ऑडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया था। इस तरह के और भी कई मामले सामने आ चुके हैं। जिस सोशल मीडिया पर मैसेज वायरल होते ही कई तरह की प्रक्रिया पलभर में सामने आ जाती है और कई अच्छे संदेश मैसेज के माध्यम से पूरे कर लिए जाते हैं। लेकिन आत्महत्या से पहले मैसेज भेजने वालों को बचाया नहीं जा पा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *