Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

कोरोना कफ्र्यू का शुरू हुआ सख्ती से पालन, बेवजह घूमने वालों की हो रही गिरफ्तारी

10 बजते ही बंद कराया बाजार, सड़कों पर दिखा सन्नाटा

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए मैदान में पुलिस
सोमवार को दिखी बड़ी लापरवाही
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

कोरोना कर्फ्यू के पहले दिन लोगों की बड़ी लापरवाही को देखते हुए जिला प्रशासन और पुलिस ने आज से सख्त निर्णय संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए ले लिया है। कफ्र्यू का सख्ती के साथ पालन कराया जा रहा है। सुबह 10 बजे बाद बाजार में पूरी तरह सन्नाटा छा गया था सड़कें सुनसान नजर आ रही थी मैदान में सिर्फ पुलिस दिखाई दे रही थी।

कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए जिला प्रशासन ने शुक्रवार को 60 घंटे का लॉकडाउन लगाया था। उसके बाद सोमवार सुबह 6 बजे से 19 अप्रैल तक कोरोना कफ्र्यू लागू कर दिया गया है। सोमवार को पहले दिन लोगों ने कफ्र्यू का पालन नहीं किया और बेवजह सड़कों पर निकल आए। शहर वासियों की लापरवाही देख प्रशासन भी हैरान रह गया। शाम को ही कलेक्टर आशीष सिंह ने क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक बुला ली और मंगलवार सुबह से संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए सख्त निर्णय का फैसला ले लिया। कलेक्टर ने कफ्र्यू में दी गई राहत को कम कर दिया और सुबह 6 बजे से 10 बजे तक ही दुकानें खोलने की अनुमति दी। उसके बाद टोटल कफ्र्यू के आदेश जारी कर दिए। आज सुबह 10 बजे तक किराना दूध सब्जी की दुकानें खुली। उसके बाद पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने मैदान संभाल लिया। 11 बजने से पहले ही बाजार को पूरी तरह से बंद करा दिया गया। सड़कों पर कफ्र्यू का असर दिखाई देने लगा था। पुलिस वाहनों में सवार होकर गली मोहल्ले तक पहुंचने लगी थी और कोरोना कफ्र्यू का पालन करने के निर्देश दिए जा रहे थे। लगातार पुलिस की गाडिय़ां शहर में भ्रमण कर लोगों को सख्त हिदायत दे रही थी। सोमवार को लोगों द्वारा की गई लापरवाही के चलते जिला प्रशासन को सख्त निर्णय लेना पड़ा है।

सड़कों पर ना दिखे, अस्थाई जेल भेजें
कोरोना कफ्र्यू का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने वायरलेस पर पुलिस अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा कि सड़कों पर बेवजह कोई भी व्यक्ति घूमता हुआ दिखाई नहीं देना चाहिए। उसके बाद पुलिस पूरी तरह से अलर्ट हो गई और जगह-जगह चौराहों पर बैरिकेड लगाकर बेवजह घूमने वालों की धरपकड़ करना शुरू कर दी गई। बेवजह सड़कों पर घुमने वालों को अस्थाई जेल का रास्ता दिखाया जा रहा था। वही समाज के दुश्मन बन रहे लोगों के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई भी की जा रही थी। पहले जिला प्रशासन और पुलिस ने लोगों की जरूरतों को देखते हुए लॉकडाउन और कोरोना कफ्र्यू में राहत की बात कही थी। लेकिन लोगों द्वारा इस राहत का गलत फायदा उठाया जा रहा था जिसके चलते अब जिला प्रशासन द्वारा 19 अप्रैल तक सख्ती के साथ नियमों का पालन कराने का निर्णय लिया गया है।

%d bloggers like this: