Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890

मामला एसडीएम एकता जायसवाल के संज्ञान में आते ही नेताजी के खेत से वापिस बुलाई नगर परिषद की जेसीबी, एसडीएम ने कहा जांच के बाद दोषी पाए जाने वाले अधिकारी या कर्मचारी पर होगी सख़्त कार्यवाही
तराना। कहते है कि सत्ता की चाबी जिस भी पार्टी के हाथ मे रहती है अधिकारी भी उसकी ताल पर ही नाचते है और नाचे भीं क्यों ना बेचारे अधिकारियों को नौकरी जो बचानी है। लेकिन सत्ता में चूर इन नेताओं को सरकारी वाहनों का दुरुपयोग करने का साहस आता कहां से है ये बड़ा सोचने का विषय है। दरअसल सत्ता की धौंस दिखाकर सरकारी वाहनों का दुरुपयोग करने का ऐसा ही एक मामला तराना में देखने में आया है। जहां पर सत्ताधारी पार्टी के नगर के एक बड़े पद पर बैठे (अध्यक्ष) नेताजी नगर परिषद की सरकारी वाहन (जेसीबी) को स्वंय के निजी खेत पर फ्री चलवा रहे ह। जब इस बात की जानकारी सांध्य दैनिक माटी की महिमा प्रतिनिधि सैय्यद नियामत अली को लगी तो उन्होंने अपनी जागरूकता दिखाते हुए इसकी जानकारी, मौका स्थल के फोटो एवं वीडियो सहित तुरंत एसडीएम एकता जायसवाल को दी। एसडीएम एकता जायसवाल ने जानकारी लगते ही अपनी शानदार ओर बेहतरीन कार्यप्रणाली को दर्शाते हुए तुरंत ही सत्ता के नशे में चूर इन सत्ताधारी पार्टी के बड़े पद वाले नेताजी के यहां चल रही सरकारी जेसीबी को तुरन्त वापिस बुलाया। जिससे इन नेताजी की सत्ता की सारी हेकड़ी निकल गई और इनकी हेकड़ी निकले भी क्यों ना आखिर जेसीबी नेताजी के खेत से वापिस जो आ गई खेर अब क्या करें नेताजी की मन की हो नही पाई और कर्मचारियों पर इनकी दबंगई भी नही चल पाई। खेर एसडीएम ने कहा कि जेसीबी किसके कहने पर इन नेताजी के यहां चल रही थी। उस सम्बंधित अधिकारी या कर्मचारी के खिलाफ उचित कार्यवाही की जाएगी यह आश्वासन भी दिया।
आपदा में अवसर ढूंढ लिया सत्ताधारी पार्टी के नगर के बड़े पद पर बैठे नेताजी ने
देश के प्रधानमंत्री का कहना है कि आपदा को अवसर बनाते हुए गरीबों की मदद की जाना चाहिए ताकि जरूरमंद लोगों की मदद की जा सके लेकिन प्रधानमंत्री की इस सराहनीय पहल का तराना के इन बड़े पद पर बैठे नेताजी ने कर्मचारियों और अधिकारियों पर अपनी सत्ता का रोब झाड़कर गलत ही फायदा उठा लिया। इन नेताजी ने आपदा को अवसर तो बनाया लेकिन वो भी अपने निजी स्वार्थ के लिए एक ओर जहां पूरे देश, प्रदेश, जिलों सहित चारों ओर त्राहिमाम त्राहिमाम मचा हुआ है। साथ ही तराना नगर सहित पूरी विधानसभा भी अभी इस बीमारी से दो-चार हो रही है और ये नेताजी सत्ता के नशे में चूर सत्ताधारी पार्टी के बड़े नेता होने के साथ साथ बड़े पद का फायदा उठाकर बेचारे छोटे कर्मचारियों को डराकर अपना उल्लू सीधा कर रहे है। और नगर की चिंता तो इन नेताजी के मन मे कहीं भी दूर दूर तक नही दिखाई दे रही है। इसी को तो कहते है, नेताजी आपदा में अवसर ढूंढना।

सीएमओ बने अंजान कहा- मुझे तो इस मामले की जानकारी ही नही
दरअसल नगर परिषद में क्या गतिविधि चल रही है कौन कर्मचारी काम कर रहा है और कौन कर्मचारी अपने काम से पलड़ा झाड़ रहा है, कहां सफाई व्यवस्था दुरुस्त है और कहां नही, कौन सा वाहन कहां किस काम से गया है और कौन सा वाहन विभाग के खड़ा है ये सारी जानकारियां सीएमओ को रहती है और रहना भी चाहिए। ये उनका दायित्व भी है। लेकिन क्या इतनी बड़ी जेसीबी इन नेताजी के यहां चल रही थी तो क्या इसकी जानकारी परिषद में बैठे सीएमओ सीएस जाट के पास नही थी। यह बहुत ही हास्यास्पद बात लगती है या फिर बेचारे सीएमओ अपनी नौकरी बचाने के चक्कर मे इन नेताजी के आदेश के आगे नतमस्तक हो गए। और जेसीबी नेताजी के खेत पर पहुंचा दी। ये समझ से परे है लेकिन इस पूरे मामले से सीएमओ सीएस जाट ने अपना पलड़ा झाड़ते हुए ठीकरा अपने अधीनस्थों के ऊपर फोड़ दिया और कहा कि मेरे संज्ञान में दिए बिना वाहन नेताजी के खेत पर चल रही थी। सूचना प्राप्त होने पर तुरंत जेसीबी को वापिस बुला लिया गया और कहा कि उक्त मामले में शामिल कर्मचारी पर कार्यवाही करते हुए उसका 3 दिन का वेतन काटा जाएगा। खैर नेताजी ओर नगर परिषद के जवादबार अधिकारियों की मिलीभगत की कीमत कोई छोटे स्तर के कर्मचारी को ना भुगतना पड़ जाए। क्योंकि नेताजी पूरा नगर जो चला रहे है तो ये तो उनके बाएं हाथ का खेल है। खैर खबर लगने के बाद नेताजी का यह सरकारी जेसीबी को स्वंय के खेत पर फ्री चलाने ओर पैसा बचाने का सराहनीय काम नगर की आमजनता तक तो पहुंच ही सकता है क्योंकि यही तो है आपदा में अवसर ढूंढना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *