Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

आंकड़ों में थोड़ा सुकून, घटने लगी संक्रमण दर

विगत पांच दिनों से थमा कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा, सफल हो रहे जिला प्रशासन के प्रयास
उज्जैन। अप्रैल माह के प्रथम सप्ताह के बाद से शहर में कोरोना संक्रमितों की संख्या प्रतिदिन तीन सौ के पार आ रही थी। अब धीरे-धीरे संक्रमण की दर घट रही है। पिछले तीन-चार दिनों से संक्रमित मरीजों की संख्या में भी कमी आई है। इन आंकड़ों ने शहरवासियों को थोड़ा सुकून और कोरोना को हराने के हौसले को बढ़ाया है। वहीं विगत पांच दिनों से कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी थम गया है।
उम्मीद है कि मई माह के अंत तक संक्रमण की गति काफी कम हो जाएगी। कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने इस वर्ष 2021 में मार्च माह से फिर से पैर पसारने शुरू कर दिए थे। अप्रैल में कोरोना ने पूरे देश में कोहराम मचा दिया था। स्थिति यह थी कि शहर में कोरोना जांच कराने वाले संदिग्धों लोगों में हर चौथे व्यक्ति की रिपोर्ट पाजिटिव आ रही थी। वहीं अस्पतालों में भी इलाज के दौरान मरने वालों की तादाद बढ़ गई। कोरोना के कारण गंभीर हो रहे हालातों को देखते हुए जिला प्रशासन ने कोरोना कफ्र्यू लगा रखा है। यह कोरोना कफ्र्यू अप्रैल माह से अभी तक चालू है। कोरोना के कारण शहर में लगातार बढ़ रहे मरीजों को अस्पतालों में पलंग के लिए भाग-दौड़ करनी पड़ रही है। मरीज को अस्पताल में एक पलंग दिलाने के लिए स्वजन जनप्रतिनिधियों व अफसरों की सिफारिशें लगवानी पड़ रही हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी और रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए मरीजों के अटेंडेंट परेशान हो रहे हैं। राज्य शासन से आने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन चंद घंटों में खत्म हो रहे हैं। इस आपदा में दवा माफिया भी कालाबाजारी कर रहे हैं। वे इस महामारी में अतिआवश्यक वस्तुओं को भी कई गुना अधिक दामों में मरीजों के स्वजन को बेच रहे हैं। ऐसे कई लोग पुलिस ने पकड़े भी हैं।
कफ्र्यू का अब दिख रहा असर

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
लोग घरों में रहेंगे तो जल्द ही शहर कोरोना मुक्त हो जाएगा। आज दोपहर 12 बजे गोपाल मंदिर पर छाया सन्नाटा


कोरोना महामारी की संक्रमण चेन को तोडऩे के लिए शहर में कोरोना कफ्र्यू लगा हुआ है। डाक्टरों का मानना है कि इससे भी कोरोना के प्रसार को रोकने में कुछ हद तक मदद मिली है। इसी के चलते अब धीरे-धीरे संक्रमितों की संख्या में कमी आना शुरू हो गई है।
विगत 5 दिनों में यह रहे पॉजीटिव मरीजों के आंकड़े
6 मई को 370 पॉजीटिव मरीज मिले वहीं 349 डिस्चार्ज हुए। 7 मई को 308 मरीज मिले और 208 डिस्चार्ज हुए, 8 मई को 286 मरीज मिले तथा 134 डिस्चार्ज हुए। 9 मई को 281 मरीज मिले जबकि 311 डिस्चार्ज हुए तथा 10 मई को 275 कोरोना पॉजीटिव मिले 273 डिस्चार्ज हुए। इन पांच दिनों में कुल पॉजीटिव मरीजों की संख्या 1520 रही वहीं 1275 मरीज स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज हुए। इन पांच दिनों में सुकून की बात यह है कि किसी भी मौत की जानकारी सामने नहीं आई।
आक्सीजन के लिए मची थी अफरा-तफरी
शहर में सबसे बुरे हालात अप्रैल माह के अंतिम दिनों में देखने को मिले थे। जब कोरोना के आंकड़े 300 से भी अधिक पहुंचने लगे थे। संक्रमितों की संख्या बढऩे के साथ मरीज गंभीर हालत में पहुच रहे थे, उन्हें आक्सीजन की सबसे ज्यादा जरूरत थी। डिमांड अधिक होने के कारण कई अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म हो गई थी, जिस कारण कई मरीजों की जान भी चली गई। हालांकि अब जिला प्रशासन से लेकर मंत्री तक आक्सीजन की आपूर्ति के लिए जुट गए हैं। दावा किया जा रहा है कि अब आक्सीजन की कमी नहीं होगी।

%d bloggers like this: