Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

युवाओं में वैक्सीनेशन को लेकर दिख रहा उत्साह

ग्रामीण क्षेत्रों में ऑन स्पॉट हो रहा रजिस्ट्रेशन, बड़ी संख्या में पहुंच रहे युवा
माटी की महिमा न्यूज /उज्जैन

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सरकार ने वैक्सीनेशन ही एकमात्र उपाय बताया है। 18+ वैक्सीनेशन को लेकर युवाओं में उत्साह देखने को मिल रहा है। युवा बड़ी संख्या में अपना रजिस्ट्रेशन कर स्लॉट बुक कराकर वैक्सीन लगवाने सेंटरों पर पहुंच रहे हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में रजिस्ट्रेशन संबंधित समस्याओं को लेकर सरकार ने नियमों में बदलाव किया था। अब ग्रामीण युवाओं को रजिस्ट्रेशन केन्द्र पर ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन कर वैक्सीन लगवाई जा रही है।
उज्जैन में वैक्सीनेशन के कई केन्द्र बना दिए गए हैं। आज से जो रजिस्ट्रेशन की साइट खुली थी उस पर सेंटरों की संख्या बढ़ाकर दुगनी कर दी गई है। 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों में वैक्सीनेशन को लेकर खासा उत्साह है। ये युवा अपना रजिस्ट्रेशन और स्लॉट बुक कर वैक्सीन लगवाने पहुंच रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक शनिवार को 8881 युवाओं ने वैक्सीन लगवाई है। अब तक 18 से 44 आयु वर्ग के 63 हजार 398 युवाओं ने वैक्सीन लगवा ली है। वहीं कुल वैक्सीनेशन की बात करें तो उज्जैन जिले में 3 लाख 59 हजार 697 लोगों ने वैक्सीन का प्रथम डोज लगवा लिया है वहीं 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 69 हजार 885 लोगों ने वैक्सीन का दूसरा डोज भी लगवा लिया है।
कई लोग अब भी डर रहे
वैक्सीन को लेकर सरकार द्वारा जनजागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। परंतु कई युवा और बुजुर्ग ऐसे हैं जो वैक्सीन को लेकर मन में भ्रम पाले बैठै हैं। कई लोगों का मानना है कि वैक्सीन लगवाने से दूसरी बीमारियां हो रही है और मौत की संभावना भी बढ़ रही है। कुछ दिन पूर्व ग्राम मालीखेड़ी में वैक्सीनेशन टीम पर हमला भी हुआ था। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों में वैक्सीन लगवाने के प्रति कम रूझान देखने को मिल रहा है। वहीं उज्जैन जिले में 18 प्लस के कई युवा ऐसे हैं जो अब भी वैक्सीन लगवाने से डर रहे हैं। प्रशासन वार्डवार वैक्सीनेशन के लिए जनजागरूकता वालेंटियरों के माध्यम से फैल रहा है। वार्डों में मोबाइल वैक्सीनेशन के माध्यम से भी लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूक किया जा रहा है।
कोड बताने पर लग रहा टीका
वैक्सीन लगवाने के लिए पहले विभिन्न वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना होता है जिसमें संबंधित का आधार कार्ड नंबर या अन्य दस्तावेजों का नंबर डालना पड़ता है। उसके बाद ओटीपी आता है। ओटीपी आने के बाद संबंधित केन्द्र का स्लॉट बुक कर रजिस्ट्रेशन करा लिया जाता है। केन्द्र पर जाने के बाद स्लॉट बुक कराने के बाद एक कोड मिलता है वह संबंधित को केन्द्र पर बैठे कर्मचारी को बताना होता है जिससे वे सॉफ्टवेयर में उस कोड को डालकर संबंधित को वैक्सीन लगा देते हैं। वैक्सीन लगने के तुरंत बाद वैक्सीन लगने का मैसेज आ जाता है और उसमें यह भी बताया जाता है कि अब आपको वैक्सीन का दूसरा डोज कब लगेगा।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
%d bloggers like this: