Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN
News That Matters

अखंड सौभाग्य और संतान प्राप्ति के लिए 10 जून को महिलाएं रखेंगी वट सावित्री व्रत, करेंगी पूजन

माटी की महिमा न्यूज /उÓÓौन
वट सावित्री व्रत में वट वृक्ष की पूजा का विधान भारतीय संस्कृति की गौरव गरिमा का एक प्रतीक है और इसके द्वारा वृक्षों के औषधीय महत्व व देव स्वरूप का भी बोध होता है। उ”ौन में भी महिलाएं वट सावित्री व्रत मनायेगी।
Óयोतिषाचार्यों के अनुसार भविष्य उत्तर पुराण तथा स्कंद पुराण में यह पर्व जेठ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा और कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मनाया जाता है। वट सावित्री व्रत पति की लंबी आयु, सौभाग्य, संतान की प्राप्ति की कामना के लिए किया जाता है। वट को बरगद भी कहते हैं। इस वृक्ष में सकारात्मक ऊर्जा का भरपूर संचार रहता है इस के सानिध्य में रहकर जो मनोकामनाएं की जाती हैं वे पूर्ण होती हैं। शास्त्रों में पांच वट वृक्षों का महत्व अधिक है। अक्षय वट, पंचवट, बंसीवट, गया वट और सिद्धि वट के बारे में कहा जाता है। उक्त पांचों वटों को पवित्र वट की श्रेणी में रखा गया है। प्रयाग में अक्षयवट, नासिक में पंचवट, वृंदावन में बंसीवट, गया में गया वट और उÓजैन में सिद्धि वट पवित्र है पुराणों में वट वृक्ष के मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु और अग्रभाग में शिव का वास माना गया है वट वृक्ष लंबे समय तक अक्षय रहता है इसलिए इसे अक्षय वट भी कहते हैं दार्शनिक दृष्टि से देखा जाए तो यह वृक्ष दीर्घायु का प्रतीक भी है, क्योंकि इस वृक्ष के नीचे सिद्धार्थ ने बुद्धत्व को प्राप्त किया था और वह बुद्ध कहलाए थे। आध्यात्मिक दृष्टि से भी अत्यंत लाभकारी होता है। वटवृक्ष वातावरण को शीतलता एव शुद्धता प्रदान करता है। साथ ही यदि आसपास वट वृक्ष अथवा बरगद का कोई पेड़ ना हो तो निराश ना हो कहीं से एक बरगद की टहनी मांग कर घर पर पूजा कर सकते हैं। यदि यह भी ना हो सके तो दीवार पर वट वृक्ष का चित्र अंकित करके पूजा करें। पूजा आराधना में मुख्य महत्व भावना, श्रद्धा, विश्वास ,और आस्था का होता है। वास्तविक वट वृक्ष का पूजन और इस पूजन में कोई अंतर नहीं पड़ता। इस दिन मिट्टी से सावित्री, सत्यवान और भैसे पर सवार यमराज की प्रतिमा बनाकर धूप, चंदन, दीपक, फल, रोली, केसर से पूजन करें और साथ ही सावित्री, सत्यवान की कथा सुननी चाहिए।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
%d bloggers like this: