Domain Registration ID: DF4C6B96B5C7D4F1AAEC93943AAFBAA6D-IN Editor - Rahul Singh Bais, Add: 10, Sudama Nagar Agar Road Ujjain M.P. India, Mob: +91- 81039-88890
News That Matters

Black fungas

इंदौर में डेंगू के मरीज में दिखा ब्लैक फंगस
Black fungas, India, Indore, mp

इंदौर में डेंगू के मरीज में दिखा ब्लैक फंगस

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में डेंगू को लेकर प्रशासन की चिंता अभी कम नहीं हुई थी कि एक और नए मामले ने उसके होश उड़ा दिए हैं। कोरोना के बाद जिस ब्लैक फंगस ने हाहाकार मचाया था, वह दोबारा लौटता दिखाई दे रहा है। हैरान करने वाली बात ये है कि ये ब्लैक फंगस अब डेंगू के मरीजों में दिखाई दे रहा है। ये नया मामला इंदौर में 50 साल के मरीज में दिखाई दिया। धार जिले का ये मरीज एक हफ्ते पहले ही डेंगू से ठीक हुआ था, अब इसमें म्यूकोरमाइकोसिस के लक्षण दिखाई दे रहे हैं।गौरतलब है कि इंदौर में ये पहला मामला है, जिसमें किसी मरीज में डेंगू के बाद ब्लैक फंगस दिखाई दिया है। पूरे प्रदेश में ये दूसरा मामला है। एक खबर के मुताबिक, फिलहाल इस शख्स का इंदौर के चोइथराम अस्पताल में इलाज चल रहा है। ब्लैक फंगस के लक्षण मिलने के बाद इस व्यक्ति को 15 अक्टूबर को यहां पर भर्ती कराया गया था। इससे ठीक एक हफ्ते पहले इस शख्स...
ब्लैक और वाइट फंगस के बाद अब साइटोमेगालो वायरस का खतरा
Black fungas

ब्लैक और वाइट फंगस के बाद अब साइटोमेगालो वायरस का खतरा

नई दिल्ली। पोस्ट कोविड मरीजों को कई तरह की दूसरी बीमारियां और संक्रमण हो रहे हैं, जिसमें ब्लैक फंगस व वाइट फंगस सबसे ज्यादा है। अब कोविड के बाद मरीजों में साइटोमेगालो वायरस का भी संक्रमण देखा जा रहा है और इसकी वजह से मरीजों के स्टूल के रास्ते में ब्लीडिंग हो रही है। ऐसे पांच मरीज इलाज के लिए सर गंगाराम अस्पताल पहुंचे, जिसमें एक की मौत हो गई, एक की सर्जरी की गई और तीन को एंटीवायरल थेरेपी की मदद से इलाज दिया गया। देश में पहली बार पोस्ट कोविड मरीजों में यह संक्रमण देखा जा रहा है।दरअसल, जब किसी का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है तो कई ऐसे संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है, जो अमूमन नहीं होते हैं। गंगाराम अस्पताल के गैस्ट्रोइंट्रोलॉजी विभाग के चेयरमैन डॉक्टर अनिल अरोड़ा ने कहा कि कई ऐसे वायरस हैं जो शरीर में होते हैं या वातावरण में मौजूद हैं, लेकिन उनका असर नहीं होता है क्योंकि शरीर की इ...
मस्तिष्क से निकाला क्रिकेट बॉल से भी बड़ा फंगस
Black fungas, India

मस्तिष्क से निकाला क्रिकेट बॉल से भी बड़ा फंगस

बिहार में मिला ब्लैक फंगस का अनोखा मामलापटना। कोरोना की तरह ब्लैक फंगस भी अब सामान्य से हटकर लक्षण दिखाने लगा है। ऐसा ही एक मामला इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में सामने आया। इसमें नाक से प्रवेश कर फंगस आंखों व साइनस को अधिक प्रभावित करते हुए सीधे मस्तिष्क में पहुंच गया। प्रदेश में यह पहला मामला है, जिसमें ब्लैक फंगस मस्तिष्क में देखा गया है। हालांकि, संस्थान के विशेषज्ञों ने मस्तिष्क की कठिन सर्जरी को सफलता पूर्वक अंजाम देते हुए क्रिकेट बॉल के बराबर फंगस इंफेक्शन को निकाल दिया।यह जानकारी संस्थान के चिकित्साधीक्षक डा. मनीष मंडल ने शनिवार को दी। डॉ. मनीष मंडल ने बताया कि सामान्यत: नाक से प्रवेश करने के बाद ब्लैक फंगस का संक्रमण आंखों को क्षतिग्रस्त करता है। जमुई निवासी अनिल कुमार के मामले में संक्रमण नाक से सीधे मस्तिष्क में पहुंच गया। इससे आंखों को कोई क्षति नहीं हुई है। इस विरले सफल ...
यूपी : ब्लैक फंगस के एक हजार मरीज, 54 की निकाली गईं आंखें, 80 की मौत
Black fungas, India

यूपी : ब्लैक फंगस के एक हजार मरीज, 54 की निकाली गईं आंखें, 80 की मौत

लखनऊ। कोरोना वायरस के खतरों के बीच प्रदेश में ब्लैक फंगस भी कहर बरपा रहा है। अब तक मरीजों की संख्या एक हजार के करीब पहुंच गई है। 54 मरीजों की आंखें निकालनी पड़ी हैं, जबकि 80 लोगों ने जान गंवा दी है। दावों के विपरीत हकीकत यह है कि अब तक इसका मुकम्मल इलाज ठीक से शुरू नहीं हो सका है। बड़े शहरों में तो तत्काल इलाज मिल भी रहा है, लेकिन छोटे शहरों से मरीजों को सिर्फ रेफर किया जा रहा है। जब तक वह हायर सेंटर पहुंच रहे हैं तबतक हालत बिगड़ चुकी होती है। दवाएं और इंजेक्शन न मिलने की शिकायतें भी कई जगह से मिल रही हैं।गाजियाबाद के एक मरीज में तीनों ही फंगस के लक्षण थे। उसे बचाने के लिए इंजेक्शन की जरूरत थी, लेकिन इंजेक्शन नहीं मिल सका और उसकी मौत हो गई। इलाज वक्त पर नहीं मिल रहा है इसको ऐसे भी समझा जा सकता है कि शाहजहांपुर में 5 मरीज मिले थे लेकिन जब तक वह रेफर होकर बड़े शहर पहुंचते दो मरीजों की मौत ह...
ब्लैक फंगस का इंजेक्शन 7000 में नहीं अब सिर्फ 1200 रुपए में मिलेंगे
Black fungas, India

ब्लैक फंगस का इंजेक्शन 7000 में नहीं अब सिर्फ 1200 रुपए में मिलेंगे

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया लॉन्च नई दिल्ली। ब्लैक फंगस के उपचार के लिए इस्तेमाल होने वाले टीके को लेकर राहत भरी खबर है, अभी तक बाजार में 7000 रुपए में मिलने वाला टीका अब सिर्फ 1200 रुपए में मिलेगा। अभी तक भारत में टीके का एक ही कंपनी उत्पादन कर रही थी लेकिन केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की कोशिशों के बाद महाराष्ट्र के वर्धा में एक और कंपनी ने टीका किया है और उसकी लागत भी बहुत कम है। सोमवार से इस इंजेक्शन का वितरण शुरू होने जा रहा है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के प्रयासों के बाद वर्धा की जेनटेक लाइफ साइंस ने ब्लैक फंगस के उपचार में इस्तेमाल होने वाले ्रद्वश्चद्धशह्लद्गह्म्द्बष्द्बठ्ठ क्च श्वद्वह्वद्यह्यद्बशठ्ठ इंजेक्शन तैयार किया है। अबतक इस टीके का भारत में एक ही कंपनी उत्पादन कर रही थी लेकिन अब एक और कंपनी प्रोडक्शन बढ़ाएगी और जेनटेक लाइफ साइंस की रोजाना लगभग 20000 वायल का उत...
ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद मप्र में अब क्रीम फंगस का खतरा
Black fungas, corona virus, India, mp

ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद मप्र में अब क्रीम फंगस का खतरा

जबलपुर में मिला पहला मामलाजबलपुर। मध्यप्रदेश के जबलपुर से ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद अब क्रीम फंगस का मरीज सामने आया है। स्वास्थ्य महकमे के अनुसार प्रदेश का पहला ऐसा मामला है जहां ब्लैक फंगस के साथ क्रीम फंगस का संक्रमण पाया गया है। पीडि़त मरीज का इलाज नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग द्वारा शुरू कर दिया गया है।जबलपुर में प्रदेश का सबसे पहले कोरोना संक्रमण का मामला आया, उसके बाद ब्लैक फंगस, व्हाइट फंगस और अब क्रीम फंगस का मामला सामने आया है। कोविड-19 संक्रमित मरीजों का पॉजिटिविटी दर कम हो रही है तो वहीं दूसरी ओर ब्लैक फंगस सहित उसके अन्य प्रकारों के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। बात यदि वर्तमान हालातों की की जाए तो फंगस से पीडि़त मरीजों की संख्या का शतक लग चुका है। लिहाजा मेडिकल कॉलेज में 106 मरीज इलाजरत हैं जिनमे से 39 मरीजों का ऑपरेशन भी किया जा चुका है। इन्हीं मरीजो...
उज्जैन में ब्लैक फंगस की पहचान करने के लिए ठीक हो कर गए कोरोना पॉजिटिव मरीजों का सर्वे होगा
Black fungas, India, mp, Ujjain

उज्जैन में ब्लैक फंगस की पहचान करने के लिए ठीक हो कर गए कोरोना पॉजिटिव मरीजों का सर्वे होगा

कलेक्टर आशीष ने सिंह विशेषज्ञ डॉक्टरों की बैठक लीउज्जैन। ब्लैक फंगस की पहचान एवं रोकथाम के लिए आज कलेक्टर आशीष सिंह ने नाक कान गला विशेषज्ञ डॉक्टरों की बैठक ली तथा ब्लैक फंगस के मरीजों के उपचार के बारे में समीक्षा की।कलेक्टर ने विशेषज्ञ डॉक्टरों से चर्चा करने के बाद निर्देश दिए कि 1 अप्रैल के बाद ऐसे कोरोना पॉजिटिव मरीज जो ठीक हो कर घर गए हैं उनका टेलिफोनिक सर्वे किया जाएगा तथा उसे ब्लैक फंगस के लक्षणों के बारे में चर्चा की जाएगी साथ ही फीवर सर्वे करने वाली टीम भी घर-घर जाकर परीक्षण करेगी। यदि सर्वे में किसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं तो नाक कान गला विशेषज्ञ संबंधित मरीज के घर जाकर उनका परीक्षण करेंगे। कलेक्टर ने नाक कान गला विशेषज्ञ डॉक्टर से अनुरोध किया है कि इस संबंध में प्रश्नोत्तरी एवं जागरूकता के लिए प्रचार मटेरियल तैयार करें जिससे लोग समय रहते उपचार करवा सकें।सभी निजी एवम शाशकीय अस्...
ब्लैक फंगस: आरडी गार्डी में नहीं मिल पा रही दवा
Black fungas, India, mp, Ujjain

ब्लैक फंगस: आरडी गार्डी में नहीं मिल पा रही दवा

पिता की बिगड़ती हालत देख मुख्यमंत्री से गुहारउज्जैन। कोरोना से जारी लड़ाई के बीच ब्लैक फंगस की दवा का अभाव भी साफ नजर आ रहा है। आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में मरीजों को डॉक्टर दवा इंजेक्शन लिख रहे हैं लेकिन मिल नहीं पा रही है। मेडिकल कॉलेज में भी दवा नहीं है जिसके चलते भर्ती मरीज के पुत्र ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है। ब्लैक फंगस के बढ़ते मरीजों को देखते हुए जिला प्रशासन ने आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में मरीजों के उपचार की सुविधा करते हुए अलग वार्ड की व्यवस्था की है। पिछले 1 सप्ताह में ही 20 के लगभग मरीज यहां उपचार के लिए पहुंच चुके हैं। 2 दिन पहले एक युवक की ब्लैक फंगस से मौत भी हो चुकी है। कोरोना संक्रमित होने के बाद इस फंगस का असर उन पर अधिक हो रहा है जो को कोरोना से ठीक हो चुके हैं। अचानक हुई फंगस की दस्तक के बाद अब दवा इंजेक्शन का भी अभाव साफ तौर पर दिखाई देने लगा है। कोरोना दवा...
खुली ऑप्टिकल्स की दुकान
Black fungas, India, lockdown, mp, Ujjain

खुली ऑप्टिकल्स की दुकान

उज्जैन। क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में ब्लैक फंगस के प्रकोप को देखते हुए चश्मा की दुकानें खोलने के भी आदेश जारी किए हैं। जिसके चलते आज से शहर में ऑप्टिकल की दुकानें भी सुबह 8 बजे 12 बजे तक खोली गई थी। इस दौरान चश्मा की दुकानों पर ज्यादा भीड़ दिखाई नहीं दी।
ग्वालियर में ब्लैक फंगस से दो महिलाओं की मौत
Black fungas, India

ग्वालियर में ब्लैक फंगस से दो महिलाओं की मौत

ग्वालियर। कोरोना महामारी के साथ ब्लैक फंगस (म्यूकर माइकोसिस) बीमारी जानलेवा हो रही है। रविवार को ब्लैक फंगस के चलते दो महिलाओं की मौत हो गई। इनमें एक शिवपुरी की रहने वाली थी और दूसरी नाका चंद्रवदनी ग्वालियर की निवासी थी। दोनों महिलाओं का निजी अस्पतालों में इलाज चल रहा था। इसके अलावा मुरैना के साठ वर्षीय यशवीर सिंह को सिम्स हॉस्पिटल से दिल्ली के अपोलो अस्पताल के लिए रेफर किया गया है। जेएएच में तीन और मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है।कोरोना को हरा चुकीं नाका चंद्रबदनी निवासी 43 वर्षीय रमा देवी को ब्लैक फंगस की शिकायत के चलते सिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पांच दिन पहले उनका सफल ऑपरेशन हो गया, लेकिन शनिवार रात उनका अचानक आक्सीजन लेवल कम हुआ और रविवार सुबह चार बजे उनकी मौत हो गई। सिम्स हॉस्पिटल के डॉ. अनुराग सिकरवार का कहना है कि महिला की मौत हैप्पी हाइपोक्सिया के कारण हुई है। जब...